निरंकारी सामूहिक विवाह समारोह में परिणय सूत्र में बंधे 45 जोड़े -जानिए खबर

दिल्ली| सन्त निरंकारी मिशन के समाज कल्याण विभाग द्वारा गुरुवार, २१ नवंबर, २०१९ को दिल्ली में आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में ४५ जोड़े परिणय-सूत्र में बंधे | नव-विवाहित जोड़ों को निरंकारी सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने आशीर्वाद प्रदान किया | मिशन के हजारों श्रद्धालु भक्त, वर-वधू के माता-पिता एवं सगे सम्बन्धी इस अवसर पर उपस्थित थें |

साधारण रीति से आयोजित इस विवाह समारोह में पारम्परिक जयमाला के साथ निरंकारी शादी का विशेष चिन्ह सांझा-हार भी प्रत्येक जोड़े को मिशन के प्रतिनिधियों द्वारा पहनाया गया | लावों के दौरान सद्गुरु माता सद्गुरु माता जी ने वर-वधू को पुष्प-वर्षा करके आशीर्वाद प्रदान किया | उनके साथ साध संगत तथा वर-वधू के सगे-सम्बन्धियों ने भी पुष्प-वर्षा की | यह एक अलौकिक दृश्य था|

Mass Marriages Functions Sant Nirankari Mission at Delh

इस शुभ अवसर पर भिन्न-भिन्न प्रांतों से आए हुए जोड़े जिसमेंयू.एस.ए., दुबई, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, कर्नाटक, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान से का समावेश था, सम्मिलीत हुए |

उल्लेखनीय है कि यूएसए से आए दोनों वधू-वर हाल ही में समालखा में संपन्न मिशन के ७२वें वार्षिक निरंकारी संत समागम में कायरोप्रैटिक डाक्टरों की टीम के सदस्य थे जिन्होंने रीड की हड्डी पर आधारित उपचारों के लिए मुफ्त शिविर का आयोजन किया था जिसमें १३ देशों के करीब ६० डाक्टरों ने अपनी निष्काम सेवायें दी |

नव विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद प्रदान करते हुए सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने कहा कि आज यहां सामूहिक शादियों के अवसर में जहाँ ९० परिवार मिल रहे हैं तो हमने एक दूसरे को प्रेरणा देते हुए आगे बढ़ना है | परिवार के प्रत्येक सदस्य का यह मूल कर्तव्य बनता है कि जो भी परिवार में एक नया सदस्य बनने जा रहा है उसकी आस्था, भक्ति एवं श्रद्धा का पूरा सम्मान करना है |

निरंकार प्रभु से यही हरदास है कि सारे परिवारको खुशीयाँ प्रदान करे और यह केवल एक रीति न बनकर रह जाये बल्कि इसकी पवित्रता का भी ध्यान रखें |

-राज कुमारी

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *