30 जुलाई को जरूर देखिऐगाः एक फिल्म जिसके किरदार के लिए सब कुछ न्यौछावर कर बैठे मेजर शाह -जानिए खबर

देहरादून। मेजर शाह आप लोगों से दरख्वास्त करता हूँ कि मेरी ये फिल्म 30 जुलाई जी 5 पर आने वाली है आप जरूर देखिएगा, इसको मिस मत कीजिए यह मेरे जीवन की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है। ज्ञातव्य हो कि सभी के जीवन में वह एक पल आता है जिसका उनको बेसब्री से इंतजार था, शायद मेरा वह पल आ गया था। मुझे जीवन की सबसे खूबसूरत खबर मिली। जिसका इंतजार मुझे बहुत समय से था। मैंने अपनी जिंदगी एक अमेजिंग ड्रीम रोल तिग्मांशू धूलिया की फिल्म यारां में किया। जो एक नेशनल अवार्ड विनिंग फिल्ममेकर और नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के ग्रैजुएट है।

उन्होंने मेरा काम विशाल भारद्वाज की फिल्म हैदर में देखा था, आप तो जानते हैं की हैदर को पाँच नेशनल अवार्ड मिले, तिग्मांशू मेरे काम से बहुत प्रभावित हुए चाहे उसने मेरा रोल थोड़ा छोटा था लेकिन अब यह फिल्म यारां मैं मेरा अच्छा खासा रोल है। इस फिल्म में कई कलाकार हैं विद्युत जामवाल, श्रुति हासन, अमित साथ, विजय वर्मा श्रीया नारायन, केनी बासू मत्री और मैं खुद मेजर मोहम्मद अली शाह हूँ।

मैं आपको बताना चाहता हूँ कि इस रोल के लिए मैंने क्या क्या नहीं किया, मैं चाहता तो आसान रास्ता अपना सकता था पर नहीं मैं इसमें अपनी जान डालना चाहता था। इस रोल के लिए मैंने बहुत तप किया है ये रोल मेरी वास्तविकता से बहुत दूर है इसमें मेरा कैरेक्टर एक पुलिस ऑफिसर का है।

यहाँ पर शुरू में मैंने एक यंग ऑफिसर की भूमिका निभाई और जैसे जैसे मेरी उम्र बड़ी मैं इसमें जॉइंट डायरेक्टर CBI के रोल में दिखाई दूँगा।इस किरदार को निभाने के लिए मैंने क्या कुछ नहीं किया शायद मैं थियेटर के मंच का खिलाड़ी रहा हूँ तो मैंने इस रोल को बहुत शिद्दत के साथ किया है सबसे पहले मैंने स्मोकिंग छोड़ दी क्योंकि मैं जानता था कि सरदार कम्युनिटी में लोग स्मोक नहीं करते हैं उसके बाद मैंने दाढ़ी रखने शुरू कर दी, छह मीटर वाली पगड़ी बाँधना सीखा मुझे अच्छे से याद है।

Major Mohammad Ali Shah

एक दन अचानक शॉट देने का टाइम आया तो जो ड्रेस पहनने वाली दादा थे वो कहीं मिल नहीं रहे थे तो मैंने फटा फट बिना किसी के इंतजार किए वो पगड़ी खुद से बाँधनी शुरू कर दी सब हैरान हो गए कि मैंने इतनी अच्छी पगड़ी बाँधी। मैं शुरू से ही लोगों को देखकर बहुत कुछ सीख लेता हूँ मेरी ऑब्जर्वेशन पावर की लोग दाद देते हैं। एक महीना मैं गोल्डन टेम्पल अमृतसर में रहा मैंने वहाँ पर सेवा करी, फर्श को साफ करा, झाड़ू लगाया, गंदे बर्तन साफ किए, खाना परोसा, चाय बनायी और थोड़ी थोड़ी पंजाबी भी मैंने सीख ली थी।

मैंने श्री गुरुग्रंथ साहिब जी अंग्रेजीट्रांसलेशन में पढ़ा मैं बार बार अपनी लाइनें याद करता रहता था क्योंकि मुझे जुनून था कि मैं कुछ कर दिखाना है और इतनी सारी कहानियां हैं जो जीवन भर के लिए मेरे मन में समा गई इस रोल को करते करते मैं खुुद ही धुल गया। आज मैं आप लोगों से दरख्वास्त करता हूँ कि मेरी ये फिल्म 30 जुलाई जी 5 पर आने वाली है आप जरूर देखिएगा, इसको मिस मत कीजिए यह मेरे जीवन की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *