अमृता विश्व विद्यापीठम को ’सतत नवाचार और विकास के लिए अनुभवपरक शिक्षण’ के लिए ʺयूनेस्को चेयर‘‘ हुए सम्मानित -जानिए खबर

यूनेस्को चेयर के माध्यम से, विश्वविद्यालय अनुभवपरक शिक्षण पर आधारित एक पाठ्यक्रम तैयार करके स्थायी समुदायों के विकास हेतु शैक्षिक जुड़ाव के लिए एक व्यापक रूपरेखा विकसित करेगा।
– यह अमृता विश्व विद्यापीठम को सम्मानित किया गया दूसरा यूनेस्को चेयर अवार्ड है। इससे पहले इसे लैंगिक समानता और महिला सशक्तिकरण पर भारत का पहला यूनेस्को चेयर अवार्ड मिला था।
– एनआईआरएफ इंडिया रैंकिंग 2020 में भारत में चैथे सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय का स्थान पाने वाला यह विश्वविद्यालय चार साल के लिए प्रतिष्ठित अध्यक्ष के पद पर बना रहेगा।
– छात्रवृत्ति कार्यक्रम अमृता विश्वविद्यालय कुल 100 अंतरराष्ट्रीय और भारतीय छात्रों को आर्थिक सहायता प्रदान करेगा और उन्हें सतत विकास में पीएचडी की डिग्री हासिल करने में मदद करेगा।

देहरादून। देश में सतत विकास की खोज को बढावा देने के लिए, अमृता विश्व विद्यापीठम (अमृता) को ’सतत नवाचार और विकास के लिए अनुभव परक शिक्षण’ के लिए ʺयूनेस्को चेयर‘‘ से सम्मानित किया गया है। यूनेस्को चेयर के माध्यम से, विश्वविद्यालय अनुभव परक शिक्षण पर आधारित एक पाठ्यक्रम तैयार करके स्थायी समुदायों के विकास हेतु शैक्षिक जुड़ाव के लिए एक व्यापक रूपरेखा विकसित करेगा। यह पाठ्यचर्या शैक्षिक समुदाय को कमजोर और ग्रामीण समुदायों के बीच स्थायी समाधान को लागू करने के लिए आवश्यक ज्ञान, कौशल, दृष्टिकोण और मूल्यों को प्राप्त करने में सक्षम बनाएगा।

यह चेयर विश्वविद्यालय के अंतर्राष्ट्रीय कार्यक्रमों के डीन और अपने सेंटर फॉर वायरलेस नेटवर्क एंड एप्लिकेशन के निदेशक डॉ मनीषा सुधीर के नेतृत्व में अगले चार वर्षों के लिए अमृता विश्व विद्यापीठम द्वारा आयोजित किया जाएगा।

डॉ मनीषा सुधीर ने कहा, “यह पिछले चार वर्षों में अमृता विश्व विद्यापीठम को प्रदान किया गया दूसरा यूनेस्को चेयर है, इससे पहले ʺलैंगिक समानता और महिला सशक्तिकरणʺ पर भारत को पहला यूनेस्को चेयर मिला था। हमारे लिए यह एक बडे सौभाग्य की बात है कि हमने इस सम्मान को एक बार फिर हासिल किया है। हमारे बहुप्रतीक्षित अनुभव परक शैक्षिक कार्यक्रम, ʺलिव-इन-लैब्सʺ को हमारी चांसलर, श्री माता अमृतानंदमयी देवी द्वारा परिकल्पित किया गया था, जिनकी अमृता के लिए दृष्टि में हमेशा करुणा से प्रेरित अनुसंधान और सतत विकास शामिल है।

इन वर्षों में, लिव-इन-लैब्स ने भारत के 21 राज्यों में ग्रामीण समुदायों के सतत विकास में योगदान दिया है। इस काम के कारण हमारे विश्वविद्यालय को यह प्रतिष्ठित यूनेस्को चेयर प्रदान किया गया। अब हम दुनिया भर में अन्य यूनेस्को अध्यक्षों और विश्वविद्यालयों के साथ मिलकर अपनी अनुभवात्मक शैक्षिक अवधारणा को पूरी दुनिया में ले जा सकेंगे। चेयर के माध्यम से, अमृता दूरस्थ समुदायों के सदस्यों द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियों को समझने के लिए एक अनुभवात्मक शैक्षिक ढांचा विकसित करेगा और उनके सहयोग से स्थायी समाधान तैयार करेगा। ”

यूनेस्को चेयर के रूप में, अमृता 700 से अधिक शैक्षणिक संस्थानों का हिस्सा बन गया है जो अपनी शैक्षिक और अनुसंधान क्षमताओं में सुधार करने के लिए ज्ञान और विशेषज्ञता साझा करते हैं। अमृता यूनेस्को चेयर के रूप में जिन गतिविधियों का संचालन करेगा, उनमें पीजी शिक्षण कार्यक्रम (ज्वाइंट पीएचडी, डबल पीएचडी और डुअल मास्टर्स प्रोग्राम सहित), अल्पकालिक सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम, अनुसंधान (छात्रों और संकाय के लिए सीडदृग्रांट कार्यक्रम सहित), सम्मेलन, छात्रवृत्तियाँ, और समुदायों में लागू होने से पहले स्थायी विकास के लिए समाधान की व्यावहारिकता की जांच करने के लिए मॉडल प्रयोगशालाओं की स्थापना शामिल होंगे।

ʺलिव-इन-लैब्सʺ के विस्तार के रूप में (जिसे यूजी और पीजी छात्रों द्वारा अल्पकालिक कार्यक्रम के रूप में पेश किया जाता है), अमृता विश्व विद्यापीठम ने पूरी तरह से वित्तपोषित 100 E4LIFe~अंतर्राष्ट्रीय पीएचडी फेलोशिप की घोषणा की है। इसका उद्देश्य ऐसे 100 से अधिक गांवों के सतत विकास से संबंधित कार्य में तेजी लाना है, जिसे विश्वविद्यालय ने पूरे भारत में गोद लिया है। विश्वविद्यालय कुल 100 अंतरराष्ट्रीय और भारतीय छात्रों को आर्थिक मदद प्रदान करेगा और उन्हें सतत विकास में पीएचडी की डिग्री हासिल करने में मदद करेगा। विश्वविद्यालय जल्द ही 60 पीएचडी छात्रों के पहले समूह को लेने के लिए तैयार है, जिसमें से 45 अंतरराष्ट्रीय उम्मीदवार हैं।

डॉ मनीषा सुधीर ने कहा “यह चेयर और इसके तहत हम जो काम करेंगे, वह महत्वपूर्ण हैं क्योंकि ऊर्जा, जल, शिक्षा, जलवायु परिवर्तन, आपदाओं के समय रिजीलेंस की कमी आदि जैसे बुनियादी संसाधनों की पहुंच में कमी के कारण आधुनिक विकास की चुनौतियां बढ़ रही हैं। विज्ञान और प्रौद्योगिकी में प्रगति के बावजूद, दुनिया भर में काफी आबादी के लिए अभी भी सरल और बुनियादी आवश्यकताएं पूरी नहीं की जा रही हैं। यह सोचने का समय है कि उच्च स्तरीय अनुसंधान के योगदान को कमजोर वर्गों के लोगों के लिए कैसे मुहैया कराया जाए। ”

अमृता ने 2013 में अपनी चांसलर श्री माता अमृतानंदमयी देवी के मार्गदर्शन में ʺलाइव-इन-लैब्सʺ की शुरुआत की, ताकि छात्रों को भारत के ग्रामीण समुदायों के सामने आने वाली कठिनाइयों का पता चल सके। इसके पीछे विचार यह है कि अगर छात्रों को ऐसे समुदायों के साथ रहने के लिए समय दिया जाता है, तो वे ग्रामीणों की समस्याओं को बेहतर ढंग से समझने के लिए प्रेरित होंगे और उनके साथ स्थायी समाधान को तलाशने के लिए काम करेंगे।

माता अमृतानंदमयी मठ के सहयोग से, ʺलिव-इन-लैब्सʺ पूरे भारत में 101 गांवों के लिए काम करती है, जहां इसने 150 से अधिक परियोजनाओं को लागू किया है, जिससे दो लाख से अधिक लोग लाभान्वित हुए हैं। 40 से अधिक अंतरराष्ट्रीय सहयोगी विश्वविद्यालयों के 400 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय छात्रों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया है। अमृता विश्व विद्यापीठम ने एनआईआरएफ इंडिया रैंकिंग 2020 में भारत में चैथे सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालय का स्थान हासिल किया।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *