96 कर्मचारियों को मिलेगा 13 साल के वेतन; दिव्य फार्मेसी को बड़ा झटका

नैनीताल। योग गुरु बाबा रामदेव की कंपनी दिव्य फार्मेसी को हाई कोर्ट ने बड़ा झटका दिया है। बता दें कि हाई कोर्ट ने कंपनी की विशेष अपील खारिज कर दी है। कोर्ट के इस फैसले के बाद से बाबा रामदेव की कंपनी को 2005 के समझौते के अनुसार 96 कर्मचारियों को वेतन देना होगा और कर्मचारियों के 13 साल के वेतन का भुगतान भी करना होगा।

क्या था मामला

दिव्य फार्मेसी और कर्मचारियों के बीच मई 2005 में वेतन को लेकर एक समझौता हुआ था। 2013 में कर्मचारियों ने कंपनी के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका दायर की। जिसमें कहा गया कि कंपनी समझौते के अनुसार वेतन का भुगतान नहीं कर रही है। हाई कोर्ट की एकलपीठ ने 2005 के समझौते को वैध करार दिया। एकलपीठ के फैसले के खिलाफ कंपनी सुप्रीम कोर्ट गई।

सुप्रीम कोर्ट ने हरिद्वार के सहायक श्रमायुक्त को पूरा मामला स्पष्ट करने के निर्देश दिए थे। असिस्टेंट लेबर कमिश्नर ने माना कि 96 कर्मचारी वास्तव में 2005 के समझौते के अनुसार वेतन पाने के हकदार हैं। साथ ही उन्हें समझौते के अनुसार वेतन देने की संस्तुति भी की। लेबर कमिश्नर के इस फैसले के खिलाफ कंपनी फिर से हाई कोर्ट पहुंच गई तो हाई कोर्ट ने लेबर कमिश्नर के आदेश पर मुहर लगा दी। इसके बाद कंपनी ने फैसले के खिलाफ विशेष अपील दायर की।

मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति केएम जोसफ व न्यायमूर्ति यूसी ध्यानी की खंडपीठ ने मामले को सुनने के बाद एकल पीठ के आदेश को सही ठहराते हुए दिव्य फार्मेसी की विशेष अपील खारिज कर दी और कर्मचारियों के पक्ष में फैसला सुनाया।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply