सीईओ राशेष शाह ने एडलवाइज फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड को सीएसआर में उत्कृष्टता के लिए मिली पहचान -जानिए खबर

देहरादून। आज नई दिल्ली में कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय द्वारा सीएसआर के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय सीएसआर अवार्ड 2018 से भारत के अग्रणी विविधीकृत वित्तीय सेवा कंग्लोमरेट एडलवाइज फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड को सम्मानित किया गया। एडलवाइज ग्रुप के चेयरमैन और सीईओ राशेष शाह और एडलगिव फाउंडेशन की सीईओ विद्या शाह ने भारत के महामहिम राष्ट्रपति श्री. राम नाथ कोविंद के करकमलों से यह पुरस्कार प्राप्त किया।

वहीं एडलवाइज ग्रुप ने कंपनियों के लिए सीएसआर को अनिवार्य करने वाले विधेयक के 2014 में पारित होने से बहुत पहले ही अपने परोपकारी उपक्रम एडलगिव फाउंडेशन की स्थापना 2008 में कर दी थी। बीते एक दशक के दौरान एडलगिव ने अपनी प्रमुख प्राथमिकता वाले क्षेत्रों- शिक्षा, महिला सशक्तीकरण और आजीविका में कई कार्यक्रम संपन्न किए हैं। फाउंडेशन ने भारत के 14 राज्यों में 150 से अधिक भागीदारों का सहयोग किया है, जिससे 25 लाख लाभार्थी प्रभावित हुए हैं।

समुदायों की मदद करने की यह इच्छा संस्थान के भीतर गहराई तक पैठी हुई है, जिसे कर्मचारियों द्वारा 32,500 घंटे से अधिक समय का स्वयंसेवी कल्याणकारी कार्य करके प्रदर्शित किया गया है। एडलवाइज ग्रुप के चेयरमैन और सीईओ राशेष शाह का कहना है, “आज भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद जी के हाथों यह पुरस्कार पाकर मैं बहुत खुश हूं और इस क्षेत्र में किए गए हमारे कार्य को मान्यता प्रदान करने के लिए प्रतिष्ठित जूरी का आभारी हूंएडलवाइज ग्रुप ने भारत में रणनीतिक सीएसआर के लिए एक मंच बनाने के उद्देश्य से एडलगिव फाउंडेशन का गठन किया था।

आज के मुद्दों की जटिलता के मद्देनजर पूरे भारत के कॉर्पोरेट्स के लिए परोपकार के कार्यों पर एक रणनीतिक लेंस के माध्यम से ध्यान देना बेहद महत्वपूर्ण हो जाता है। हमें अपने द्वारा समर्थित कार्यक्रमों की जरूरतों को पूरा करने के लिए पारंपरिक दान करने से परे जाना होगा और यह देखने के लिए अलग दृष्टि अपनानी होगी कि हम समुदायों में बदलाव को कैसे सक्षम कर रहे हैं।

एडलगिव फाउंडेशन की सीईओ विद्या शाह ने बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, “जब 11 साल पहले हमने एडलगिव फाउंडेशन का श्रीगणेश किया था, तो हम परोपकारी क्षेत्र के काम करने के तौर तरीकों को बदलना चाहते थे और न केवल हमारे द्वारा समर्थित गैर-सरकारी संगठनों के कार्यक्रमों की संख्या पर ध्यान केंद्रित करना चाहते थे, बल्कि उनकी क्षमताओं का निर्माण भी करना चाह रहे थे। आज अनेक विविधीकृत कार्यक्रमों को लेकर काम करने वाले संगठनों के प्रतिष्ठित समूह के बीच मान्यता प्राप्त होना बड़े सम्मान की बात है।

इस सम्मान के लिए हम भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद, कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय और इस एवार्ड की जूरी में शामिल सभी सदस्यों के प्रति आभार व्यक्त करते हैं।” ये पुरस्कार सीएसआर के क्षेत्र में सर्वोत्तम कार्यप्रणाली को प्रोत्साहित करने और उन कंपनियों के प्रयासों को मान्यता देने के लिए गठित किए गए हैं जिन्होंने सीएसआर के लिए रखे गए धन का अभिनव और प्रभावी ढंग से उपयोग किया है।

एडलगिव फाउंडेशन ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए शिक्षक प्रशिक्षण और कौशल विकास के माध्यम से मौजूदा सरकारी सिस्टम की मदद करके शिक्षा के क्षेत्रों में चलने वाले कार्यक्रमों का सहयोग किया हैय सामाजिक-कानूनी सहायता सहित सामाजिक औरध्या आर्थिक सशक्तीकरण के कार्यक्रमों पर ध्यान केंद्रित करके, महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) में शामिल होने की प्रेरणा देकर, वित्तीय साक्षरता आदि प्रदान करके महिला सशक्तीकरण किया है। और प्रासंगिक प्रशिक्षण प्रदान करके, स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) को बैंकिंग और क्रेडिट सुविधाओं से जोड़कर तथा वाटरशेड प्रबंधन के माध्यम से आजीविका प्रदान की है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *