200 गेंदों के शॉर्ट फॉर्मेट पर क्रिकेट के दीवानों ने व्यक्ति की नाराजगी

नई दिल्ली। क्रिकेट को और अधिक रोचक व दिलचस्प मनोरंजक बनाने के लिए अक्सर नये-नये प्रयोग किये जाते रहते हैं। इसी के चलते इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) ने 200 गेंदों के शॉर्ट फॉर्मेट के क्रिकेट मैच का प्रस्ताव रखा है, ईसीबी के प्रस्ताव के अनुसार 2020 से 8 टीमों वाले एक तरफ से 100 गेंद फेंके जाने वाले घरेलू मैच शुरू किए जाएंगे। बता दें कि इस लोकप्रिय खेल क्रिकेट के दुनियाभर में कई दीवाने मौजूद हैं जिस पर क्रिकेट फैन्स सोशल मीडिया पर अपनी नाराजगी व्यक्त कर रहे है।

बता दें कि अगर क्रिकेट का यह फॉर्मेट अमल में लाया जाता है तो यह गेम 20 ओवरों वाले टी20 फॉर्मेट से भी छोटा होगा। इसे लेकर नाराज फैन्स की तरफ से यहां तक कहा जा रहा है कि टॉस से ही तय कर लो कि कौन जीता। ईएसपीएन क्रिक इन्फो ने गुरुवार (19 अप्रैल) को ट्वीट कर ईसीबी के इस प्रस्ताव की जानकारी दी। इसके बाद लोगों ने तस्वीरें, वीडियो आदि के माध्यम से कमेंट्स की झड़ी लगा दी। एक यूजर ने लिखा कि इसे एक तरफ से 10 गेंदों वाला मैच बना दो। नवीद अंसारी नाम के यूजर ने चिंता प्रकट करते हुए लिखा- ”छोटे प्रारूप के साथ अब ज्यादा प्रयोग न किया जाए, इससे खेल को किसी तरह को फायदा नहीं होने जा रहा है।”

अभिजीत खामारु ने लिखा- ”क्या ईसीबी की बात सही है? क्या टी20 काफी नहीं है?” एक यूजर ने इस पर सुझाव दिया- ”इसे 10 विकेट के बजाय 5 विकेट वाला खेल क्यों न बना दिया जाए? हो सकता है कि ऐसा होने पर बल्लेबाज के अपने विकेट की ज्यादा कीमत समझेंगे। गेंदबाजों और ज्यादा प्रेरणा मिलेगी। मुझे गेंदबाजों को बैटिंग करते हुए देखने की जरूरत नहीं होगी।” अब्दुल मुइज ने लिखा- ”2050 तक यह एक तरफ से एक गेंद वाला टूर्नामेंट होने जा रहा है।” इस पर पंडित नाम के यूजर ने लिखा- ”यह एक टॉस का भी हो सकता है।” बता दें कि टी20 क्रिकेट और इंडियन प्रीमियर लीग टूर्नामेंट को लेकर कुछ जानकारों की राय आती रहती है कि इन प्रारूपों से क्रिकेट को नुकसान पहुंचा है।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *