जोशीमठ में बेटी ने बचाई गंगा में बहती हुई मां की जान -जानिए खबर

जोशीमठ। उत्तराखण्ड के जोशीमठ में एक बेटी ने अपनी मां को गंगा में बहते देख अपनी जान की परवाह किये बिना ही मां को गंगा में बहते हुए बचा लिया। बता दें कि 20 मिनट के कड़ी मस्कत के बाद बेटी ने मां को नदी के किनारे पर ले आई जिससे उसने मां की जान बचा ली है।

मीडिया खबरों के अनुसार रविवार को जोशीमठ में धौली गंगा के किनारे रामकली व उनकी 17 वर्षीय बेटी किरण लकड़ी बीनने गई थी। अचानक से मां पैर फिसलने से वह नदी की तेज धारा में बहने लेगी। तभी मां को बहतजा देख किरण ने अपनी जान की प्रवाह किये बिना ही नदी में कूद गई और लगभग 20 मिनट की कड़ी मस्कत के बाद मां को नदी के किनारे ले आई जिससे मां की जान बचने कामयाब हो सकी। किनारे आते ही दोनों बेहोश हो गई।

बता दें कि वह तो संयोग से वहां पास ही एनटीपीसी की जल-विद्युत परियोजना के पर्यावरण मित्र काम कर रहे थे। उन्होंने ही घटना की सूचना तपोवन चैकी के प्रभारी सुनील भारती को दी। पर्यावरण व स्थानीय लोगों की मदद से मां-बेटी को सड़क तक लाकर 108 सेवा के जरिये सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जोशीमठ पहुंचाया गया। तपोवन के ग्राम प्रधान किशोर कन्याल ने बताया कि नेपाली मूल की रामकली देवी का परिवार बीते 20 वर्षो से तपोवन में रह रहा है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *