रिसर्च में बड़ा खुलासाः इस वजह से आता है घर में बिजली का बिल सबसे ज्यादा -जानिए खबर

नई दिल्ली। भारतीय घरों में बिजली पहुंचने का सबसे ज्यादा फायदा पुरुषों को मिला है, जबकि महिलाएं उनसे पीछे हैं। यह बात कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी की रिसर्च में सामने आई है। रिसर्च साइंस मैगजीन नेचर में प्रकाशित किया गया है। पुरुष बिजली का इस्तेमाल सबसे ज्यादा टीवी देखने में जबकि महिलाएं कपड़े प्रेस करने में करती हैं।

यूनिवर्सिटी के डेनियल अर्मानियोस और उनके साथियों ने देश 7 बड़े राज्यों में बिजली के इस्तेमाल को लेकर रिसर्च की। इनमें गुजरात, मध्यप्रदेश, बिहार, झारखंड, ओडिशा, यूपी और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। सबसे पहले गुजरात में प्रयोग के तौर पर 30 घरों में सर्वे किया गया। यहां पता चला कि इनमें आधे से ज्यादा घरों के किचन में लाइट ही नहीं हैं। टीवी, पंखे का भी सबसे ज्यादा इस्तेमाल पुरुष ही करते हैं।

6 दूसरे राज्यों में भी समान नतीजे

डेनियल ने बताया कि इसके बाद हमने 6 राज्यों में सर्वे किया। यहां भी ऐसे ही नतीजे मिले। सिर्फ 25% महिलाओं ने कहा कि बिजली आने से उन्हें अपनी पसंद के काम करने का वक्त मिला। इससे पहले वह सिर्फ घरेलू कामों को निपटाने में ही व्यस्त रहती थीं।शोधकर्ताओं के मुताबिक, घरों में बिजली पहुंचने के बाद लैंगिक भेदभाव कम या खत्म होने की बात की जा रही थी, लेकिन सर्वे के नतीजों को देखते हुए ऐसा नहीं लगता है कि घरों में बिजली पहुंचाने से इसमें बहुत ज्यादा मदद मिली।

पंखों और बल्ब का इस्तेमाल भी पुरुष ही ज्यादा करते हैं

रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई कि यह भेदभाव सिर्फ बड़े गैजेट्स और उपकरणों तक ही सीमित नहीं है। पुरुष बल्ब और पंखे जैसे छोटे उपकरणों का इस्तेमाल करने में भी महिलाओं से आगे हैं। इसके साथ ही महिला प्रधान परिवारों के किचन में पंखों की संख्या पुरुष प्रधान परिवारों की तुलना में अधिक पाई गई।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *