उत्तराखण्ड में भूकंप के झटके; दहशत में लोग घरों से बाहर

उत्तरकाशी। उत्तराखण्ड के पर्वतीय जिला उत्तरकाशी की यमुना घाटी में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता कम थी, लेकिन दहशत में आए लोग रात को ही घरों से बाहर निकलकर भागे। वहीं उत्तरकाशी के जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि भूकंप के झटके बेहद मामूली थे और बड़कोट क्षेत्र में ही केंद्रित रहे।

गौरतलब है कि इससे पहले जनवरी में भी यहां भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि यमुना घाटी के बड़कोट कस्बे के आसपास रात करीब 9.26 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप की तीव्रता 2.9 मापी गई। इसका केंद्र उत्तरकाशी और बडकोट के बीच आंका गया।

भूकंप के झटके महसूस होने से दहशत में आए लोग लोग घरों से बाहर निकल आए। फिलहाल कहीं से किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है। दूसरी ओर जिलाधिकारी डॉ. आशीष चैहान ने बताया कि अफसरों को एहतियात बरतने को कहा है।

गौरतलब है कि उत्तरकाशी भूकंप के लिहाज से संवेदनशील रहा है। 20 अक्टूबर 1991 को आए भूकंप में आठ सौ से अधिक लोग मारे गए थे। साथ ही सैकड़ों परिवार बेघर हो गए थे। इसके बाद वर्ष 1999 के भूकंप ने फिर उत्तरकाशी को डराया। इसके बाद भी जिले में समय-समय पर भूकंप के झटके महसूस किए जाते रहे।

इसी वर्ष 31 जनवरी को उत्तरकाशी में दो बार भूकंप के झटके महसूस हुए। इनका केंद्र उत्तरकाशी था। भूगर्भीय दृष्टि से जिला बेहद संवेदनशील जोन-4 व 5 में स्थित है।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *