युग सुंदर, सदियां सुंदर, गर मानव जीवन हो सुंदरः सुदीक्षा महाराज

नई टिहरी। संत निरंकारी मंडल के तत्वाधान में तीन दिवसीय निरंकारी युवा गोष्टी के तीसरे दिन सतगुरु माता सुदीक्षा सविंदर हरदेव सिंह जी महाराज की छत्रछाया में सम्पन्न हुआ। इस विशाल सामूहिक निरंकारी संत समागम का आयोजन उन्होंने कहा कि जिस तरह से इन तीनों दिनों में एन.वाई.एस. का उद्देश्य था कि- हम सब इंसान तत्वों से बने हैं और चल भी रहे हैं परंतु जो छटें तत्व निरंकार रूपी ब्रह्म ज्ञान की ज्योति को प्राप्त करके मानव इस निरंकार को देखकर अपने जीवन की यात्रा को तय करता है तो युग सुंदर, सदिया सुंदर और प्रत्येक मानव मानवीय गुणों से सुंदर बन जाता है।

उन्होंने एक उदाहरण का सहारा लेकर इसे बखूबी समझाया कि जिस तरह से एक कुमार होता है, और वही एक ही प्रकार की मिट्टी का इस्तेमाल करते हुए तरह-तरह के बर्तन बना लेता है। उसी प्रकार से हम भी अलग-अलग रूप रंग की आकृतियां हैं।

उन्होंने फिर कहा कि जिस प्रकार कुत्तों की सभा हुई और आपस में सभा में समझौता हुआ कि हम समाज में बहुत बदनाम हैं। आज से हम आपस में नहीं लड़ेंगे। ठीक उसी समय आकाश में उड़ रहे एक चील के मुंह से खाने का टुकड़ा नीचे गिर जाता है तो कुत्ते खाने के टुकड़े को देखकर आपस में फिर लड़ने लगते हैं। कही हमारी भी ऐसी यही स्थिति तो नहीं है। इतना कुछ सीख कर भी हम वहीं के वहीं पर खड़े।

सद्गुरु की शिक्षाओं को सीखकर अपने कर्मों द्वारा जीवन में अपनाएं और संसार को प्रेरणा दें। तभी हमारा जीवन सुंदर होगा और युग भी सुंदर। इस निरंकारी संत समागम में गणमान्य समाजसेवी अतिथियों ने देवभूमि उत्तराखंड में सतगुरु माता सविंदर हरदेव जी महाराज के आगमन पर हार्दिक अभिनंदन किया।

सभी अतिथियों ने संसार में निरंकारी मिशन द्वारा चलाए जा रहे समाज को समर्पित कार्यों की भूरी-भूरी प्रशंसा की। मुख्य रूप से माननीय किशोर उपाध्याय, दिनेश, खेम सिंह चैहान, स्वराज, रमेश चंद रमोला, टिहरी व्यापार मंडल एवं नगरपालिका अधिकारियों ने भी माता जी का स्वागत किया।

बता दें कि इस समागम में दूरदराज के राज्य उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली एवं पंजाब से एवं उत्तराखंड के पिथौरागढ़, नैनीताल, हरिद्वार, देहरादून, उत्तरकाशी और चमोली, रुद्रप्रयाग के लगभग 10,000 निरंकारी संत भक्तों एवं स्थानीय लोगों का भी बढ़-चढ़कर आगमन हुआ। इनके लिए वाहन पार्किंग एवं साफ-सफाई की व्यवस्था स्वयं के सेवादारों द्वारा निभाई गई जोकि देखने योग्य थी। जिसकी सभी लोग और लोगों द्वारा प्रशंसा की गई थी।
– राकेश रतूड़ी, पुरोला

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply