भारत में कोरोना वायरस से हुई पहली मौत; दिल्ली में महामारी घोषित, स्कूल और कॉलेज बंद -जानिए खबर

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस से पहली मौत की पुष्टि हो गई है। कर्नाटक के कलबुर्गी शहर में दो दिन पहले कोरोना के जिस संदिग्ध बुजुर्ग की उपचार के दौरान मौत हुई थी, उसके नमूने की जांच में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। इससे देश में कोरोना से कुल संक्रमित मामलों की संख्या 76 हो गई है।

ज्ञातव्य हो कि कोरोना का खौफ दुनियाभर में बढ़ता ही जा रहा है। अब तक कोरोना वायरस से दुनियाभर में 4 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। भारत में अब तक कोरोना के 76 मामले सामने आ चुके हैं, जबकि पूरी दुनिया में अब तक कोरोना वायरस के एक लाख 26 हजार से ज्यादा मामले पॉजिटिव आ चुके हैं।

वहीं परन्तु कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारत ने पूरी दुनिया से खुद को अलग कर लिया है। भारत सरकार ने दुनिया के किसी भी देश से आने वाले लोगों का वीजा 15 अप्रैल तक सस्पेंड कर दिया है। इसके अलावा दिल्ली सरकार ने भी दिल्ली में कोरोना को महामारी घोषित कर दिया है। साथ ही दिल्ली में कोरोना के खतरे को देखते हुए सभी सिनेमाहॉल को 31 मार्च तक बंद किया गया। इसके अलावा जिन स्कूल और कॉलेजों में परीक्षाएं नहीं चल रही हैं, उनको भी 31 मार्च तक बंद किया गया।

कर्नाटक राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बी श्रीरामुलू ने गुरुवार को ट्वीट कर बताया कि मरीज का नमूना पहले ही ले लिया गया था और उसके कोरोना से संक्रमित होने की आज पुष्टि हुई। उन्होंने कहा कि इस मामले में भी संदिग्ध को अलग-थलग रखने और उसके संपर्क में आने वालों की जांच के पूरे प्रोटोकॉल का पालन किया गया।

कोरोना से संक्रमित इस मरीज की उम्र 76 साल थी। वह एक महीने सऊदी अरब में रहने के बाद 29 फरवरी को वापस लौटा था और अस्थमा का रोगी था। छह मार्च को पहली बार उसे सर्दी जुकाम के लक्षण होने पर उसने एक डॉक्टर को दिखाया था। नौ मार्च को तबियत ज्यादा बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया। मंगलवार रात को उसकी मौत हो गई थी और कोरोना से जुड़ी उसकी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा था।

कर्नाटक के स्वास्थ्य विभाग के कमिश्नर ने कहा- जिस बुजुर्ग 76 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है वो कोरोना वायरस का मरीज था। तेलंगाना सरकार को भी इस बारे में बताया गया है क्योंकि बुजुर्ग व्यक्ति वहां के भी अस्पताल में गया था।

पांच मार्च को बुजुर्ग को जिले के प्राइवेट अस्पताल ले जाया गया था और अस्थमा और हाइपर टेंशन के चलते उसे भर्ती कराया गया था। हॉस्पीटल के स्टाफ ने उसके कोरोना वायरस की जांच की थी। तीन दिन के बाद उसे हैदराबाद के अस्पताल में शिफ्ट किया गया था। बुजुर्ग के परिवार उसे उसी दिन लेकर चले गए और रात करीब साढ़े दस बजे बुजुर्ग की मौत हो गई थी।

इससे पहले, जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने बुधवार को यह जानकारी दी थी कि बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई जिसके कोरोना वायरस से संक्रमित होने का संदेह था। विभाग के एक आधिकारिक नोट में मृतक की पहचान मोहम्मद हुसैन सिद्दीकी के तौर पर की गई है जिसकी मंगलवार को सरकारी अस्पताल में मौत हो गई। विभाग के अधिकारियों ने बताया था, ‘उसके नमूने जांच के लिए बेंगलुरु की एक प्रयोगशाला में भेजे गए थे। रिपोर्ट की प्रतीक्षा की जा रही है।’

उन्होंने बताया कि सिद्दीकी हाल ही में सऊदी अरब से लौटा था जहां वह धार्मिक यात्रा के लिए गया था। दुनियाभर में कोरोना वायरस का संक्रमण इस कदर फैल चुका है कि आम लोग तो क्या मंत्री-संत्री भी इसके प्रकोप से बच नहीं पा रहे हैं। ब्रिटेन के स्वास्थ्य विभाग की मंत्री नडीने डोरिस के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। कंजर्वेटिव सांसद ने कहा, ”मैं पुष्टि कर सकती हूं कि मैं कोरोना वायरस की जांच में पॉजीटिव पाई गई हूं और खुद को घर में अलग कर रखा है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *