सैन्य पुलिस में भर्ती के लिए महिलाओं के दून में चल रहा है निशुल्क शिविर -जानिए खबर

देहरादून। सेना, पहली बार महिलाओं को सैन्य पुलिस में भर्ती करने जा रही है। अप्रैल के महीने में समाचार पत्रों में विज्ञापन के द्वारा सूचना जारी की गयी थी। इसके लिए आवेदन की ऑनलाइन प्रक्रिया 25 अप्रैल से 30 जून तक चली।

बता दें, ऐसा पहली बार होगा जब सेना में सैन्य पुलिस में सैनिकों के रूप में महिलाएं आवेदन कर सकती हैं। सेना के जनरल बिपिन रावत ने सेना प्रमुख के रूप में कार्यभार संभालने के तुरंत बाद इस परियोजना को शुरू किया। भर्ती रैली अम्बाला, लखनऊ, जबलपुर, बेलगाम और शिलोंग में होने की उम्मीद है।

हजारों की संख्या में लडकियों ने इसके लिए ऑनलाइन आवेदन किया है, जिसमे उत्तराखंड कि बेटियों ने भी प्रतिभाग लिया है। इन भर्तियों के प्रशिक्षण के लिए ,10 जुलाई से यूथ फाउंडेशन ने उत्तराखंड की बेटियों के लिए सरदार भगवान सिंह यूनिवर्सिटी, बालावाला में निशुल्क कैंप का आयोजन किया है। इस शिविर का हिस्सा वही युवतियाँ बन पाएँगी, जिन्होंने भारतीय सेना पुलिस के लिया ऑनलाइन आवेदन कर रखा है।

यूथ फाउंडेशन के सदस्य सूरज कोठियाल ने बताया कि शिविरों का हिस्सा बनी लड़कियों को अनुभवी महिला अध्यापकों द्वारा पाठ्यक्रम पढ़ाया जाएगा और सेना के तौर तरीकों से अवगत कराया जाएगा। शारीरिक व मानसिक प्रशिक्षण के साथ-साथ, यूथ फाउंडेशन के शिविरों में योग, पर्यावरण को स्वच्छ रखना और सेना के अन्य कई तौर तरीके को बारीकी से पढ़ाया व समझाया जाता है।

इस शिविर के साथ साथ ही यूथ फाउंडेशन द्वारा कुमाऊँ की भर्ती के लिए युवाओं की चयन परिक्रिया भी शुरू हो गयी है। कुमाऊँ की भर्ती के लिए कर्नल अजय कोठियाल (रि) कीर्ति चक्र, शौर्य चक्र, विशिष्ट सेना मैडल ,द्वारा संस्थापित यूथ फाउंडेशन की टीम 12 से 26 जुलाई तक 18 स्थानों पर भर्ती पूर्व प्रशिक्षण का आयोजन किया जाएगा। फिलहाल यूथ फाउंडेशन के चार शिविर, गढ़वाल भर्ती की शारीरिक दक्षता पास कर चुके युवाओं को लिखित परीक्षा के लिए प्रशिक्षण दे रहे है।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply