भेदभाव की दीवारें गिराकर प्रेम के पुल बाँधने का सदगुरु माता सुदिक्षा जी ने किया आह्वान -जानिए खबर

नासिक| मानवीय मनों मे खडी हुई भेदभाव की दीवारें गिराकर प्रेम का पुल बनाने का आह्वान| दूसरों का मन दुखाने की बजाय हमें दूसरो के आसूपोछने चाहिए| संसार में मानव को प्रेम की आवश्यकता हैं, घृणा की नही|

मानवता के नाम संदेश देते हुए सद्गुरु माता सुदीक्षाजी ने महाराष्ट्र के तीन दिवसीय 53वेंवार्षिक निरंकारी संत समागम विधिवत उद्घाटन किया| इस संत समागम में भाग लेने हेतु महाराष्ट्र के कोने-कोने से लाखों की संख्या में श्रद्धालु पधारे हैं| आस-पास के राज्यों एवं देश के अन्य हिस्सों से भी भारी संख्या में श्रद्धालु पधारे हैंइसके अलावाविदेशों से भी सेकडो की संख्या में श्रद्धालु इस समागम में पधारकर दूर देशोंका प्रतिनिधित्व कर रहे हैं|

Sadguru Mata Sudiksha

अनेकता में एकता का दर्शन प्रस्तुत करती भव्य शोभा यात्रा से

सद्गुरु माता सुदीक्षाजी महाराज ने कहा कि भिन्न-भिन्न संस्कृति, भाषा, वेशभूषा होने के बावजूदप्रत्येक इन्सान के अंदर एक परमात्मा का अंश समान रुप से निवास करता है| ईश्वर की अंश इस आत्मा को जानने के लिए इसके मूल परमात्मा को जानने की आवश्यकता है|

परमात्मा को जानने के बादही भक्ति आरंभ होती है और उसके बाद किया हुआ हर कर्म भक्ति बन जाता है| सत्य ज्ञान पर आधारित जीवन सुंदर बन जाता है| हम यथार्थ में मानव बन जाते हैंI केवल तन से ही नही बल्कि कर्म से मानव बनने की जरुरत है| इसलिए यह ज्ञान का प्रकाश हर मानव तक पहुँचाने की जरुरत है|

Sadguru Mata Sudiksha

इससे पहले समागम स्थल पर प्रवेश से पहले लगभग डेढ कि.मी.लंबी रंगारंग शोभा यात्रा द्वारा सद्गुरु माता जी का स्वागत किया गया| यह शोभा यात्रा धरमपूर पेठ राजमार्ग, म्हसरुल-दिंडोरी रोड पर आयोजित की गई| यह शोभा यात्रा एअरफोर्स रोड होती हुई समागम स्थल पर संपन्न हुई|

महाराष्ट्र के 53वें वार्षिक निरंकारी संत समागम का शुभारंभ

सद्गुरु माता जी म्हसरुल-दिंडोरी रोड पर स्थित एक फूलों से सुसज्जित वाहन पर विराजमान थी| उनके सामने से हजारों की संख्या में श्रद्धालु उनका आशीर्वाद लेते हुए गुजर रहे थें| शोभा यात्रा की खासियत यह थी कि यह महाराष्ट्र स्थित मिशन के १५ क्षेत्रों के पारंपारिक वेशभूषा एवं संस्कृति का सकारात्मक मिश्रण प्रस्तुत कर रही था|

Sadguru Mata Sudiksha

इन क्षेत्रों की वेशभूषा व रंग इस प्रकार थें– नाशिक-गुलाबी, सोलापूर-सफेद, पूणा-बैंगणी, सातारा-संत्री, डोंबिवली- हलका हरा, कोल्हापूर-गुलाबी, औरंगाबाद, लाल, धुले सुनहरी पीला, मुंबई-आसमानी-नीला, अहमदनगर-गुलाबी, नागपूर-लाल, वारसा-बैंगणी, चिपलून-सुनहरा, रायगड-हरा | इस शोभा यात्रा में सौ महिलायें साडियों में और सौ पुरुष अपने अपने क्षेत्र के अनुसार भिन्न भिन्न रंगों की पगडियाँ बांधे हुए चल रहे थे| शोभा यात्रा में महाराष्ट्र की भिन्न-भिन्न पारंपरिक कलाओं को प्रस्तुत किया जा रहा था जिसमें , नाशिक ढोल, आदिवासी तारपा, लेझिम, महाराष्ट्र की लोकधारा लेझिम, लेझिम बॅन्ड, बॅन्ड हलगी, दिंडी, मंगला गौर, पवारा आदिवासी, कोली, पेशवाई संस्कृति, ढोल-ताशा, पौड, बंजारा, सिंधी संस्कृति, भांगड़ा, आदिवासी रेला आदि लोकनृत्य एवं मानव मात्र की उन्नति को दर्शाती हुई नाटिकायें भी शामिल थीं|

Yuth Band Nirankari

अन्य राज्यों जैसे गुजरात एवं गोवा आदि से भी श्रद्धालु अपने अपने पारंपारिक वेशभूषा में शोभा यात्रा का हिस्सा बने| शोभा यात्रा के अंतिम पड़ाव में सद्गुरु माता जी फूलों से सुसज्जित वाहन में शोभा यात्रा में शामिल हो गए| समागम स्थल के मुख्य द्वार पर पहुँच कर सद्गुरु माता जी ने सत्य, प्रेम एवं एकत्व के प्रतीक स्वरुप रंगबिरंगे गुब्बारे छोड़े| उसके उपरान्त समागम कमेटी के सदस्यों, मिशन के केन्द्रीय पदाधिकारियों, मिशन के अन्य गणमान्य सदस्यों एवं साध संगत द्वारा सद्गुरु माता जी की मुख्य मंच तक अगुवानी की गई|

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *