मांगें नही मानी तो 108 व खुशियों की सवारी की सेवाएं पूरे प्रदेश में ठप – जानिए

देहरादून। प्रदेश में संचालित आपातकालिन सेवा 108 व खुशियों की सवारी संघ के प्रदेश महासचिव विपिन जमलोकी ने कहा कि यदि शासन ने 23 अप्रैल तक उनकी मांग न मानी तो वे 24 अप्रैल को एक महारैली निकालकर सचिवालय कूच करेंगे। इस दौरान सभी आपातकालिन सेवा ठप कर दी जायेंगी।

उत्तराखंड में 108 व खुशियों की सवारी कर्मचारियों ने 11 वर्षो की अपार सेवा के बाद जनता के बीच इन सेवाओं को जीवनदायिनी सेवा का नाम दिलाया। आंकड़े बताते हैं लाखों जिंदगी को जीवनदान देने के साथ 10500 से ज्यादा बच्चों का जन्म एम्बुलेंस के अंदर करने का कृतिमान भी किया। लेकिन वर्तमान शासन व सरकार लगभग 717 कर्मचारियों को 30 अप्रैल तक सेवा खत्म के नोटिस हआ कंपनी के माध्यम से कर्मचारियों को दे चुकी हैं जिससे ये समस्त कर्मचारी 30 अप्रैल को बेरोजगार हो जायेंगे।

इन कर्मचारियों ने जब हुआ कंपनी के साथ कार्य प्रारंभ किया तो 5300 पायलट वा 5700 के लगभग इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन ने इस वेतन के साथ 2008 मे इस सेवा के साथ शुरुवात की लगातार विभिन्न भौगोलिक परिस्थितियों के साथ 11 वर्ष के बाद 15000 से 18000 के पास पहुंचे थे लेकिन अब सरकार ने नई कंपनी कैम्प को टेंडर दे दिया है।

जो सभी अनुभव को दरनिकार कर न्यूनतम रुपये देने की बात कर बाहर भी करने की साजिश कर रही हैं। दूसरी और कैम्प भर्ती प्रक्रिया में भी बहुत मानक का ध्यान नही दे रही हैं। जो कर्मचारी वर्तमान में कार्यरत है उनको सरकार द्वारा पहले 53 दिन का विशेष ट्रेनिंग दी जाती थी जिसमे प्रमुख रूप से प्रसव केस की थी जो स्त्री लोग विशेषज्ञ के साथ मिल कर प्रैक्टिकल तक हॉस्पिटल में मुहैया करवाया जाता था क्योंकि इसमें ज्यादा तर सभी 99» फार्मसिस्ट हैं जिनके पूर्व कोर्स में प्रसव के रिलेटेड कोई ज्ञान नही दिया जाता है विशेष कोर्स करवाया जाता था और इन कर्मचारियों ने 15000 से ज्यादा बच्चों का जन्म एम्बुलेंस में करवा कर रेकॉर्ड भी बनाया था।

लेकिन वर्तमान कैम्प कंपनी कोई मानक का ध्यान नही रख रही हैं मात्र 3 दिन की थ्योरी ट्रेनिंग करवा कर भर्ती कर रही हैं जो आने वाले समय मे प्रसव गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य सेवा के लिये खतरनाक हैं। दूसरे और ड्राइवर के लिये हिल्स हैवी लाइसेंस का मानक भी नहीं रख रही हैं जबकि ये पहाड़ी एरिया हैं।

जबकि पूर्व कर्मचारियों ने इसको जीवनदायिनी बनाया था। इस प्रकार पुराने अनुभव को दरनिकार कर 30 अप्रैल को सेवा खत्म के नोटिस दे दिये गये हैं जिससे सभी कर्मचारी बेरोजगार हो जायेंगे सभी उत्तराखंड के स्थायी निवासी हैं जो पलायन के लिये भी मजबूर होंगे। जिसके विरोध में 24 अप्रैल को समस्त कर्मचारी प्रदेश भर से देहरादून परेड ग्राउंड से सचिवालय तक महारैली का आयोजन कर सचिवालय घेराव करेंगे।

उनकी मांगों में सभी कर्मचारियों को पूर्व की भांति उसी वेतन में उसी लोकेशन पर जहाँ पूर्व में कार्यरत है नियुत्ति प्रदान की जाये। यदि 23 अप्रैल तक मांग नही मानी गयी तो 24 अप्रैल को 108 व खुशियों की सवारी सेवा पूरे प्रदेश में ठप रहेगी।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply