प्रभु की पहचान करके इसको पाना ही भक्ति है: डाॅ0 राज श्रीवास्तव

देहरादून (भगवान सिंह)। सद्गुरु की कृपा से ब्रहृमज्ञान रूपी दिव्य नेत्र पाकर जैसे-जैसे गुरूसिख का ध्यान सद्गुरू निरंकार की तरफ बढ़ता जाता है (प्रभु की पहचान करके ही, उसे पाया जा सकता है)। जो ब्रहमज्ञान को प्राप्त करके अपने व्यवहार में उपयोग करता है, उनके वारे-न्यारे हो जाते है। उक्त आशय के प्रवचन सन्त निरंकारी सत्संग भवन, रेस्ट कैम्प में आयोजित रविवारीय सत्संग कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कानपुर से पधारी पूज्य बहन डाॅ0 राज श्रीवास्तव जी ने सद्गुरू माता सविन्दर हरदेव जी महाराज का पावन सन्देश देते हुए व्यक्त किये।

उन्होंने आगे कहा यह निराकार है, इस निराकार को जानने एवं मिशन के पांच प्रणों पर चलकर व्यवहार में जो परिवर्तन आते है, तो हमारी दिशा और दशा बदल जाती है। मन के भ्रम और भ्रान्तियां समाप्त हो जाती है। जैसे कमल का फूल कीचड में उगता है, परन्तु वह कीचड़ में लिप्त नही होता। अगर पूरे तालाब में कमल के फूल ही फूल खिले हो, तो वह कीचड़ वाला तालाब भी बहुत सुन्दर लगता है। इसी प्रकार जब मन में निराकार का वासा होता है, तो मन से द्वेष, निन्दा, नफरत, अंहकार, नकारात्मक भाव समाप्त हो जाते है और सब में परमात्मा को देखकर सहनशीलता, नम्रता, समता का भाव उत्पन्न होता है। उस समय हमें वास्तविक शान्ति की प्राप्ति होती है। ऐसे में कोई पराया नही लगता, बल्कि सभी को एक परिवार के समान देखने वाली नजर मिलती है।

संसार में रहकर भी संसार की भौतिक वस्तुओं से मोह न करके केवल इस निराकर परमात्मा से मन को जोड़ना ही भक्ति है। संसार के प्रत्येक भौतिक कार्य को परमात्मा के नाम से अपनी दिनचर्या को शुरू करना चाहिए। इसका सुमिरन हर पल-हर स्वास के साथ करते रहने से मन के दुरभाव नष्ट होते है। युगों-युगों में सन्तो के मुख से निकले वचन पर हम चलते है, तो जीवन सवर जाता है। भविष्य में आने वाले द्वेष समाप्त हो जाते है और लोक-परलोक भी सुहेला हो जाता है। सत्संग समापन से पूर्व अनेकों सन्तों भक्तों ने गीतों, प्रवचनों, गढ़वाली, नेपाली, हिन्दी, पंजाबी, कुमाउंनी, भाषा का सहारा लेकर समस्त संन्तों को निहाल किया। सेवादल के भाई बहनों ने भी समस्त सेवाओं को सुन्दर रूप दिया। मंच का संचालन अशोक भारती ने किया।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *