जेजीयू ने कोविड-19 महामारी के बीच नौकरी और करियर संबंधी सहायता प्रदान करने के लिए 200 छात्रों के लिए अद्वितीय सहायता कार्यक्रम किया शुरू -जानिए खबर

देहरादून। ओ.पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी (जेजीयू) ने 2020 के मास्टर्स और पीएचडी स्नातक के लिए अंडरग्रेजुएट और फैलोशिप के लिए 200 अनुसंधान छात्रवृत्ति (रिसर्च स्कॉलरशिप) की घोषणा की। यह विश्वविद्यालय द्वारा अपने छात्रों के भविष्य को सुरक्षित करने और छात्रों की चिंता को दूर करने के लिए की गई एक अभूतपूर्व और असाधारण पहल है, क्योंकि कोविड 19 से करियर पर प्रतिकूल प्रभाव पड रहा है। 2020 में स्नातक करने वाले जेजीयू के सभी 200 छात्रों को इस कार्यक्रम से लाभ होगा।

द टीचिंग एंड रिसर्च फॉर इंटेलेक्चुअल पर्सूट (टीआरआईपी) फेलोशिप प्रोग्राम कोविड 19 के कारण नौकरियों और करियर पर पड रहे प्रतिकूल प्रभाव के दौरान स्नातक (मास्टर्स और पीएचडी) छात्रों के लिए 100 उच्च गुणवत्ता वाले शैक्षणिक करियर का समर्थन करेगा। कैरियर समर्थन योजना के तहत, 2020 बैच के 100 जेजीयू स्नातकों (मास्टर और पीएचडी) को विश्वविद्यालय से पर्याप्त फैलोशिप प्राप्त होगी।

जेजीयू ने युवा और आकांक्षी शोधकर्ताओं के लिए अनुसंधान और संस्थागत मेंटरशिप पर ध्यान केंद्रित करने के लिए जेजीयू के सभी स्नातक छात्रों के लिए 100 जीआरआईपी स्कॉलरशिप (ग्रैजुएट रिसर्च इमर्शन प्रोग्राम) की भी घोषणा की है। छह महीने की जीआरआईपी छात्रवृत्ति के तहत आवास और अन्य लाभों और विशेषाधिकारों के साथ वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

ओ पी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलपति प्रोफेसर (डॉ) सी राज कुमार ने कहा, ष्कोविड-19 महामारी के कारण जारी वैश्विक संकट के बीच, हम भारत और दुनिया भर के विश्वविद्यालयों के स्नातकों की मदद के लिए सामने आ रहे हैं। हम मानते हैं कि जेजीयू को खासकर इन असाधारण रूप से कठिन समय के दौरान हमारे छात्रों की मदद करना चाहिए और उन्हें सहयोग प्रदान करना चाहिए।ष्

प्रोफेसर कुमार ने कहा, ʺजेजीयू के 2020 स्नातकों को 200 छात्रवृत्ति और फैलोशिप प्रदान करने के लिए जेजीयू का निर्णय उच्च शिक्षा में एक ऐतिहासिक पहल है जिससे युवा और आकांक्षी शिक्षाविदों और अनुसंधान कर्ताओं का भविष्य उज्जवल होगा। फैलोशिप (मास्टर्स और पीएचडी छात्रों के लिए) और छात्रवृत्ति (स्नातक के लिए) 2020 के स्नातक बैच को मदद करने के लिए की जाने वाली एक पहल है जिससे अगले सामान्य शिक्षाविदों, अनुसंधानकर्ताओं और शिक्षकों को तैयार करने और उन्हें सशक्त बनाने के लिए अनुसंधान करने के सार्थक तरीके खोजने में मदद मिलेगी। यह छात्रों को अकादमिक करियर की खोज में मार्गदर्शन करके उनके समग्र कैरियर की प्रगति में मदद करेगा।”

100 टीचिंग एंड रिसर्च फॉर इंटेलेक्चुअल पर्सूट (टीआरआईपी) फेलोशिप छात्रों को सीखने के माहौल की शिक्षण समझ के साथ उन्हें शैक्षणिक और अनुसंधान क्षमताओं, बौद्धिक दक्षताओं, शिक्षण कौशल विकसित करने के लिए दो साल के फेलोशिप कार्यक्रम में समग्र शैक्षणिक अनुभव प्राप्त करने का अवसर प्रदान करता है।

टीआरआईपी फैलोशिप शिक्षाविदों के कैरियर के लिए मार्ग विकसित करने के लिए मास्टर्स और पीएचडी कार्यक्रमों से जेजीयू के 2020 स्नातकों को आर्थिक रूप से सहयोग प्रदान करेगा जिससे कोरोनोवायरस महामारी के कारण छात्रों के कैरियर में आ रही बाधा और अनिश्चितताओं को दूर करने में भी मदद मिलेगी।

टीआरआईपी फैलोशिप जेजीयू के अकादमिक और अनुसंधान इच्छुक स्नातकों को उनके शोध कौशल को और अधिक तेज करने और जेजीयू के प्रमुख विद्वानों और शोधकर्ताओं के साथ काम करते हुए अंतरराष्ट्रीय स्तर के जर्नल लेख और प्रकाशनों को तैयार करने में भी मदद करेगा। यह कानून, प्रबंधन, सामाजिक विज्ञान और मानविकी में भारतीय और वैश्विक उच्च शिक्षा संस्थानों के लिए उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं के विकास के एजेंडे को भी आगे बढ़ाएगा।

छह महीने की जीआरआईपी छात्रवृत्ति पहल हमारे स्नातक छात्रों के सामने आने वाली चुनौतियों को संबोधित करती है, और उन्हें कोविड -19 महामारी के कारण चल रहे संकट का समाधान करने में सक्षम बनाती है। लॉकडाउन के परिणाम स्वरूप और सीखने या करियर स्ट्रीम को आगे बढ़ाने के अवसरों या स्पष्टता की कमी ने कई छात्रों के लिए अनिश्चितता पैदा कर दी है।

इस कार्यक्रम का उद्देश्य स्नातक कर रहे छात्रों को उनके समग्र कैरियर की प्रगति में मदद करना और उनकी उच्च शिक्षा या पेशेवर करियर में महत्वपूर्ण बदलाव लाने में मदद करना है। कार्यक्रम उद्योग विशेषज्ञों, व्यवसायियों, वकीलों, न्यायाधीशों, अग्रणी राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय शिक्षाविदों और शोधकर्ताओं, पत्रकारों, सरकारी अधिकारियों और संस्थागत प्रमुखों के साथ संवाद करने के लिए जीआरआईपी विद्वानों के लिए अद्वितीय और व्यापक अवसर प्रदान करेगा, जो अनुशासनात्मक क्षेत्रों और सीमाओं के पार बौद्धिक बहस, चर्चा और सहयोग को बढ़ाने के लिए विश्वविद्यालय के व्यापक संस्थागत एजेंडा के तहत जेजीयू में नियमित रूप से आमंत्रित किए जाते हैं। ।

टीआरआईपी फैलोशिप दो साल का कार्यक्रम है, जो अक्टूबर 2020 में शुरू होगा। टीआरआईपी फैलो और अकेडमिक ट्यूटर्स को 2020 में स्नातक करने वाले मास्टर्स छात्रों और अपनी थीसिस को सफलता पूर्वक पूरा करने वाले पीएचडी छात्रों में से एक प्रतियोगी प्रक्रिया के माध्यम से चुना जाएगा।

टीआरआईपी फैलोशिप के तहत जिम्मेदारियों के सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद, टीआरआईपी फेलो और अकेडमिक ट्यूटर्स को जेजीयू में सहायक व्याख्याता के पद के लिए योग्य माना जाएगा और वह जेजीयू संकाय का एक हिस्सा हो सकता है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *