मां के शव को फ्रीजर में रखकर 3 साल तक लेता रहा बेटा पेंशन

एक कलयुगी बेटे की हैरान करने वाली काली करतूतें उस समय सामने आयी जब बुधवार देर रात को पुलिस की टीम ने छापेमारी कर वृद्धा का शव बरामद किया। बताया जा रहा है कि इस कलयुगी बेटे ने अपनी मां के शव को तीन साल तक फ्रीजर में रखा। इसके बाद प्रत्येक साल वह अपनी मां के अंगूठे का निशान लगाकर बैंक में प्रमाण पेश करता रहा और प्रत्येक साल अकाउंट में आई पेंशन की रकम को डेबिट कार्ड के जरिए निकालता रहा। इस तरह वह तीन साल से हर महीने 50,000 रुपए पेंशन ले रहा था। सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि इस कलयुगी बेटे के साथ उसका पिता भी रहता था। उसने इसको लेकर किसी भी प्रकार की आपत्ति नहीं की।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह पूरा मामला कोलकात के बेहला थाना क्षेत् के जेम्स लांग सरणी का बताया जा रहा है। बुधवार की देर रात वह डीसी निलांजन विश्वास को इसकी जानकारी मिली तो पुलिस की टीम ने छापेमारी वृद्धा का शव बरामद किया। 84 वर्षीय बीना मजूमदार फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया में बड़े पद से रिटायर हुई थीं। करीब तीन वर्ष पहले उम्रजनित बीमारियों की वजह से बीना की मौत अस्पताल में हो गई थी। उनके बेटे शुभब्रत मजूमदार (46) ने शव का अंतिम संस्कार करने के बजाए उसे घर के अंदर ही फ्रीजर में रख दिया था। बेटे ने लेदर टेक्नोलॉजी की पढ़ाई की है और मां के शव को संरक्षित करने के लिए रसायनों का इस्तेमाल करता था। उसके पिता गोपाल चंद्र मजूमदार (89) उसी के साथ रहते हैं। वह भी एफसीआई में बड़े पद से सेवानिवृत्त हैं। मां बीना मजूमदार को 50 हजार रुपए प्रति महीने पेंशन मिलती थी।

माना जा रहा है कि पेंशन लेते रहने के लिए शुभब्रत ने ऐसा किया था। इंजीनियरिंग की पढाई करने के बाद भी वह कोई नौकरी नहीं करता था और मां-बाप के पेंशन से ही गुजारा कर रहा था। पुलिस पिता से भी पूछताछ कर रही है कि आखिरकार उन्होंने बेटे की इस साजिश के बारे में किसी को जानकारी क्यों नहीं दी। पुलिस के सूत्रों की मानें को शुभब्रत की योजना की भनक पिता को मिल गई थी, इसलिए संभव है कि उन्होंने ही पुलिस को सूचना दी हो।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply