चौंक जाएंगे शराब के शौकीन लोग ये खबर जानकर . . .

देहरादून। शराब के शौकीन लोगों को यह चौंकाने वाली खबर है। बता दें उत्तराखंड आवासीय विश्वविद्यालय अल्मोड़ा ने एक ऐसा डिवाइस तैयार की है जिससे नशे, नींद और मोबाइल पर बात करने की स्थिति में उक्त शौकीन लोगों को ड्राइविंग करना मुश्किल हो जायेगा। क्योंकि इस डिवास से शराब पिया हुये व्यक्ति की गाड़ी स्टार्ट ही नहीं पायेगी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दून में आयोजित पत्रकार वार्ता में विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एचएस धामी ने बताया कि प्रदेश में बढ़ रही वाहन दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने की दृष्टि से राज्यपाल केके पाल ने इस विषय पर शोध कार्य करने का निर्देश दिया। जिसके बाद उनके नेतृत्व में आरआइ इंस्ट्रयूमेंट्स एंड इनोवेशन इंडिया के डॉ. आरपी जोशी व आकाश पांडे ने मिलकर एक ऐसा डिवाइस तैयार किया है, जिसे गाड़ियों पर लगाए जाने के बाद नशे, नींद या मोबाइल पर बात करने की स्थिति में गाड़ी नहीं चलाई जा सकेगी।

उन्होंने बताया कि ड्राइविंग सीट पर बैठने के बाद ड्राइवर को गाड़ी स्टार्ट करने के लिए डिवाइस पर लगे सेंसर पर फूंक मरनी होगी। जिससे ग्राफीन सेंसर तुरंत एक्टिवेट हो जाएगा और ड्राइवर के खून में उपस्थित एल्कोहल की मात्रा का आकलन कर लेगा। एमवी एक्ट के मानकों से अधिक एल्कोहल होने पर इंजन स्टार्ट ही नहीं होगा। ड्राइवर चालाकी दिखाते हुए किसी दूसरे व्यक्ति से फूंक मरवाता है तो भी डिवाइस में लगा आइआर सेंसर (इंफ्रा रेड सेंसर) इसे भांपकर गाड़ी को स्टार्ट नहीं होने देगा।

चालक को नींद का झोंका आने पर यात्रियों को करेगा सतर्क

नींद का झौंका आने की स्थिति में भी डिवाइस पर लगा इमेजिंग सेंसर ड्राइवर की आंखों की मूवमेंट के आधार पर गाड़ी में बैठे अन्य यत्रियों को आगाह कर देगा। गाड़ी चलाते हुए ड्राइवर द्वारा मोबाइल पर बात करने की स्थिति में भी इमेजिंग तकनीक द्वारा सतर्कता सूचना प्रसारित की जाएगी। इसमें लगे जीपीआरएस व जीएसएम तकनीक से गाड़ी की लोकेशन भी जानी जा सकेगी। अगर गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो जाती है तो डिवाइस द्वारा 5 से 10 मिनट में 100 नंबर डायल कर इसकी सूचना स्वतः ही भेज दी जाएगी।

डॉ. धामी ने बताया कि डिवाइस के फार्मूले को पेटेंट कराने के लिए यूकॉस्ट के पेटेंट सेल को भेज दिया गया है। इस डिवाइस को गाड़ियों में लगाने से पहले 80 से भी अधिक जांच से गुजरना होगा। यह जांच मानेसर स्थित आई कैड, गुड़गांव स्थित एसजीएस लैब व पुणे स्थित एआरएआइ संस्थान में चल रही है। इसके बाद ही डिवाइस का राज्य सरकार के सम्मुख प्रदर्शन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *