कूटा ने हर माह एक दिन के वेतन कटौती के फैसले को वापस लेने की माँग की -जानिए खबर

नैनीताल। कुमाऊँ विश्वविद्यालय शिक्षक संद्य “कूटा” ने हर माह एक दिन के वेतन कटौती के फैसले को वापस लेने की माँग की है। “कूटा” ने कहा है यह व्यवहारिक फैसला नही है। “कूटा” ने स्पष्ट किया है कि केन्द्र सरकार के जारी आदेश में स्वैच्छिक वेतन कटौती की बात कही गयी है तथा सरकार द्वारा डी0ए0 बढ़ोत्तरी में पूर्व मे ही प्रतिबन्ध लगा दिया गया है ऐसे मे फैसला नितान्त अव्यवहारिक है।

सभी कर्मचारी तथा शिक्षक कोविड- 19 में अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाहन कर रहे है तथा अस्पताल के डाक्टरो, पेरामेडिकल स्टाफ तथा पर्यावरण मित्र रात दिन कार्य कर रहे है उनका वेतन भी काटा जा रहा है। जबकि उनको दुगुना वेतन दिया जाना चाहिए था।

कूटा ने इस अव्यवहारिक फैसले को शीध्र वापस लेने कीे माँग की है। इस आशय का ज्ञापन आज महामहिम राज्यपाल तथा मुख्यंमत्री को प्रेषित किया गया है “कूटा” की तरफ से ज्ञापन देने वालो मे अध्यक्ष प्र0 ललित तिवारी, उपाध्यक्ष डा0 दीपक कुमार, महासचिव डा0 सुचेतन साह, कोषाध्यक्ष डा0 विजय कुमार, उपसचिव डा0 सोहेल जावेद, डा0 पेनी जोशी इत्यादि है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *