महाराष्ट्र बना कोरोना हाॅटस्पोट: एक हजार के पार पहुंचा कौरोना से मरने वालों आंकड़ा -जानिए खबर

मुंबई। महाराष्ट्र में गुरुवार को कोरोना संक्रमितों की मौत का आंकड़ा एक हजार के पार हो गया। मुंबई कोरोना का एपिसेंटर बन चुका है, जहां राज्य की 60% मौतें हुईं। महाराष्ट्र में हालात किस तरह बिगड़ रहे हैं, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दुनिया के 198 देशों में अभी महाराष्ट्र से कम मरीजों की जान गई है। इन देशों में इजराइल, ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, श्रीलंका, शामिल हैं।

इनमें पाकिस्तान ही ऐसा देश है, जिसकी आबादी महाराष्ट्र से ज्यादा है। महाराष्ट्र में 11 करोड़ तो पाकिस्तान में 22 करोड़ लोग रहते हैं। वर्ल्ड कोरोना मीटर के आंकड़ों के मुताबिक, अब तक दुनिया के 213 देश और आईलैंड कोरोना से प्रभावित हो चुके हैं। इनमें से 23 ऐसे देश हैं, जहां कोरोना की वजह से महाराष्ट्र से ज्यादा लोगों की जान गई है।

महाराष्ट्र में इतनी ज्यादा मौतें हो चुकी हैं कि अगर इसकी तुलना विभिन्न देशों की देशों से की जाए तो ये 24वें स्थान पर आएगा-

देश मौतें
अमेरिका 77 हजार 851
यूके 31 हजार 241
इटली 30 हजार 201
स्पेन 26 हजार 299
फ्रांस 25 हजार 987
ब्राजील 9 हजार 600
बेल्जियम 8 हजार 521
जर्मनी 7 हजार 404
ईरान 6 हजार 541
नीदरलैंड 5 हजार 359
चीन 4 हजार 633
कनाडा 4 हजार 473
तुर्की 3 हजार 689
स्वीडन 3 हजार 175
मैक्सिको 2 हजार 961
इक्वाडोर 2 हजार 334
रूस 2 हजार 305
स्विट्जरलैंड 1 हजार 870
पुर्तगाल 1 हजार 184
आयरलैंड 1 हजार 497
रोमनिया 1 हजार 46
इंडोनेशिया 1 हजार 43
महाराष्ट्र (भारत) 1 हजार 19

98% मौतें अप्रैल और मई में

महाराष्ट्र में संक्रमण का पहला मामला 9 मार्च को सामने आया था। पहली मौत 17 मार्च को हुई थी। संक्रमण के चलते 31 मार्च तक राज्य में 10 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 302 केस सामने आए थे।इसके बाद संक्रमण इतनी तेजी से फैला कि अप्रैल के पहले हफ्ते में ही देश में सबसे ज्यादा मौतों और संक्रमण के मामलों वाला प्रदेश महाराष्ट्र बन गया। देश के 32% मामले यहीं हैं। 38% मौतें भी इसी राज्य में हुई हैं। मई में मौतों का नया ट्रेंड देखने को मिला। अब हर रोज 50 से ज्यादा लोगों की यहां जान जा रही है।

विशेषज्ञ बोले- दुनिया में सबसे ज्यादा तबाही धारावी में होने का खतरा

एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी-बस्ती धारावी में अब तक कोरोना से 30 से ज्यादा जानें जा चुकी हैं, जबकि 500 से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। दुनिया के बड़े विशेषज्ञों की चिंता है कि अगर यहां संक्रमण पर जल्द से जल्द काबू न पाया गया तो दुनिया में सबसे ज्यादा तबाही यहीं हो सकती है।

स्टेनफॉर्ड यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर और इबोला के लिए काम करने वालीं डॉ. कृतिका कपाल्ली इस बारे में आगाह कर चुकी हैं। उन्होंने ट्वीट किया था, “मैं इसे लेकर पिछले कई महीनों से चिंतित थी। भारत की बड़ी आबादी और धारावी जैसे स्लम में रहने वालों की बड़ी संख्या की वजह से ये चिंता जायज है। यहां कोविड-19 जंगल की आग की तरह फैल सकता है और अकल्पनीय ढंग से मौत और तबाही ला सकता है।’’

2.6 वर्ग किलोमीटर में 10 लाख लोग रहते हैं

दुनिया के इस सबसे बड़े स्लम में 2.6 वर्ग किलोमीटर इलाके में करीब 10 लाख लोग रहते हैं। यहां 10 बाय 10 फीट का कमरा 8 से 10 लोगों का घर होता है। 73 फीसदी लोग पब्लिक टॉयलेट इस्तेमाल करते हैं। किसी टायलेट में 40 तो कहीं 12 और कहीं 20 सीट होती हैं। एक सीट को रोज करीब 60 से 70 लोग इस्तेमाल करते हैं, यानी एक दिन में एक हजार से ज्यादा लोग एक पब्लिक टॉयलेट में आते हैं।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *