मोदी ने तैयार किया अंडे का पनीर -जानिए खबर

नोएडा। आमतौर पर आपने दूध का पनीर खाया या सुना होगा। यह पनीर आमतौर पर तीन से चार दिनों में खराब हो जाता है। लेकिन अब अंडों से भी पनीर तैयार किया गया है और इसको नाम दिया गया है ‘सेल्फ स्टेबल एग पनीर’।

मीडिय सूत्रों के मुताबिक दिल्ली से सटे नोएडा में स्थित एमिटी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक प्रोफेसर वीके मोदी ने ऐसा पनीर तैयार किया है, जो करीब नौ महीनों तक खराब नहीं होगा। जाहिर है इसको रखने के लिए किसी रेफ्रिजरेटर की भी जरूरत नहीं है। इसको सामान्य तापमान में कमरे में भी रखा जा सकता है।

Scientific Professor VK Modi

वैसे तो यह सूखे की अवस्था में होता है, लेकिन पानी में डालते ही तीन से चार मिनट में नरम और खाने योग्य हो जाता है। इसकी तकनीक औद्योगिक उत्पादन के लिए ट्रांसफर की जा चुकी है। जल्द ही यह बाजार में उपलब्ध होगा। प्रोफेसर वीके मोदी एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ फूड टेक्नॉलजी में हेड ऑफ इंस्टीट्यूशन हैं।

उन्होंने बताया कि आजकल के खाद्य पदार्थों में पर्याप्त मात्रा में पौषक तत्व नहीं मिल पाते। जिन वस्तुओं में होते भी हैं तो वह जल्द खराब हो जाते हैं। दाल, दूध और अंडे में पर्याप्त मात्रा में पौषक तत्व पाए जाते हैं। ऐसे में सोचा कि अंडे से कुछ ऐसी चीज बनाई जाए, जो जल्द खराब नहीं हो।

प्रोफेसर वीके मोदी ने बताया कि इसको बनाने में दो वर्ष लगे। इसे तीन तरह से तैयार किया जाता है। वजन कम करने के शौकीन लोगों के लिए अंडे के सफेद हिस्से से बनाया जाता है। बच्चों के लिए अंडे के पीले से बनाया जाता है। वहीं, सबकुछ खाने वालों के लिए पूरे अंडे से तैयार होता है। अभी 100 किलोग्राम पनीर बनने में एक दिन का समय लगता है। वहीं, अधिक उत्पादन होने पर इसे बनाने में कम समय लगेगा।

दूध से बने पनीर से होता है सस्ता

बाजार में मिलने वाले दूध से पनीर की कीमत 300 रुपये प्रति किलोग्राम के आसपास होती है। सेल्फ स्टेबल एग पनीर बाजार में 200 रुपए प्रति किलोग्राम में आसानी से मिल जाएगा। वहीं, औद्योगिक उत्पादन होने पर यह और भी सस्ता मिलने लगेगा।

इसमें किसी भी तरह का रासायनिक पदार्थ नहीं मिलाया गया है। इसे केवल अंडे और फूड वाइंडर्स से तैयार किया गया है। इसमें प्राकृतिक पनीर में पाए जाने वाले सभी तरह के पौषक तत्व हैं। इसके साथ ही अंडे से बने होने के कारण यह शरीर के लिए और भी अधिक फायदेमंद है।

प्रोफेसर वीके मोदी ने बताया कि आमतौर पर पनीर में पाचन की समस्या आती है। इस पनीर में ऐसा कुछ नहीं है। इसे प्रचूर मात्रा में पौषक तत्व होने के कारण मिड डे मील के तौर पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे सब्जी, सूप, पराठे आदि तैयार किए जा सकते हैं।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply