गढ़वाल की धरती में समा गई थी माता सीता; इस जिले की भूमि में बनेगा माता सीता का मंदिर -जानिए खबर

देहरादून। उत्तराखंड के पौड़ी जिले के फलस्वाड़ी गांव में माता सीता का भव्य मंदिर बनाने हेतु मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एक ट्रस्ट के गठन की घोषणा की है। 12 सदस्यीय इस ट्रस्ट के अध्यक्ष को मुख्यमंत्री द्वारा नामित किया जाएगा। ट्रस्ट में शेष सदस्यों के तौर पर विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिनिधियों को शामिल किया जाएगा।

बता दें कि ट्रस्ट के गठन की घोषणा पर पर्यटन सचिव श्री दिलीप जावलकर ने कहा कि प्रस्तावित सीता माता सर्किट, पौड़ी के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। यह मंदिर धार्मिक पर्यटन की दृष्टि से पौड़ी के लिए काफी अच्छा साबित होगा। यहां देश व विदेश के पर्यटकों का आगमन होगा, जिससे स्थानीय लोगों को रोजगार भी उपलब्ध होगा।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड सरकार इस स्थल को सीता सर्किट के माध्यम से धार्मिक पर्यटन पटल पर लाने की योजना बना रही है। वहीं पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने कहा कि पौड़ी के सितोन्सयूं पट्टी में स्थित इस गांव का नाम माता सीता के नाम पर ही सितोन्सयूं पड़ा है, यहीं पर माता सीता ने भूमि समाधि ली थी और इस गांव के लोग वर्षों से माता सीता की पूजा अर्चना करते आ रहे हैं।

माना जाता है कि फलस्वाड़ी गांव ही वह जगह है जहां माता सीता धरती में समा गयी थीं। भगवान राम और सीता माता में आस्था रखने वाले भक्त इसी उद्देश्य से यहां आते हैं।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *