दुख की लम्बी रात: अब नयना करते रहते आँसू की बरसात

काटे से भी नहीं कटे यह,  दुख की लम्बी रात ।

ना जाने कब हो पाएगी , प्रियतम तुमसे बात ।

इक-इक पल युग -युग से बीते , जब आते तुम याद,

अविरल नयना करते रहते , आँसू की बरसात ।

Reena Yogal Hariyana

सुख-दुख आते धूप-छाँव सम , सदा न रहता कोय।

छाया माया दोनों लगते , कहाँ ठिकाना होय ।

दुखी पुकारे कातर स्वर में , सुख।में हर्ष अपार,

सुख-दुख के पिंजरे में पंछी , सिर धुन धुन कर रोय ।

रीना गोयल ( हरियाणा)

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply