अत्यधिक ठंड के कारण टिहरी जिले के लिए एक जवान की सियाचीन में मौत; घर में मातम -जानिए खबर

सियाचिन में तैनात अत्यधिक ठंड से उत्तराखण्ड के एक जवान की तबियत बिगडने के कारण मौत होने की खबर हैं। जवान की मौत खबर सुनकर परिजनों सहित पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जम्मू कश्मीर के सियाचिन में तैनात उत्तराखंड के टिहरी जिले के चंबा ब्लॉक के साबली गांव निवासी रमेश बहुगुणा की मौत हो गई है। अब तक जवान की मौत का कारण अत्यधिक ठंड से होना बताया जा रहा है। इस खबर से परिजनों सहित पूरे क्षेत्र में शोक की लहर छा गई है।

बता दें कि विकासखंड चंबा के नजदीकी गांव साबली निवासी हवलदार रमेश बहुगुणा (38) पुत्र स्व. टीकाराम बहुगुणा साल 2002 में महार रेजीमेंट में शामिल हुए थे। इसके बाद पिछले साल अगस्त 2919 में उनकी तैनाती सियाचिन में हुई थी।

विगत 31 जनवरी 2020 को हवलदार बहुगुणा की तबियत अधिक बिगडने पर उन्हें इलाज के लिए एक फरवरी को इलाज के लिए भारतीय सेना के चंडीगढ़ स्थित अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि अत्यधिक ठंड और ऑक्सीजन की कमी की वजह से रमेश की मौत हो गयी है।

हालांकि इस संबंध में सेना की ओर से कोई आधिकारी बयान नहीं आया है. जवान के भाई दिनेश ने बताया कि रमेश के पार्थिव शरीर को गांव लाया जा रहा है। बुधवार को ऋषिकेश घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। वे तीन भाइयों में सबसे छोटे हवलदार रमेश बहुगुणा अपने पीछे दो छोटे बच्चे, पत्नी और मां को छोड़ गए।

बता दें कि माइनस 40 डिग्री तापमान वाले सियाचिन बार्डर पर देश की सुरक्षा में तैनात इस जवान बेटे की शहादत के बाद मां और पत्नी सदमे में हैं। हवलदार रमेश ने मार्च में बच्चों के एडमिशन के लिए घर आने का वादा किया था। दोनों छोटे बच्चे पापा के घर लौटने के इंतजार में हैं। पिछली बार नवंबर 2019 में जब हवलदार रमेश ड्यूटी पर गए थे, तब उन्होंने बच्चों से नई कक्षा में एडमीशन दिलाने के लिए मार्च में घर आने का वादा किया था।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *