लाॅकडाउन में डिजिटल पेमेंट विकल्पों को अपना रहे लोग, पेटीएम को दे रहे हैं प्राथमिकता -जानिए खबर

देहरादून। अभी हमारा देश सामाजिक दूरी, मास्क और दस्ताने की नई दुनिया में जी रहा हैद्य ऐसे में डिजिटल भुगतान प्लेटफार्म पेटीएम ने ब्रॉडबैंड औरडेटा कार्ड बिल भुगतान में 200 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है। इसके साथ ही मोबाइल रिचार्ज में 42 प्रतिशत की वृद्धि और किराने के सामान परखर्च में 30 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है।

पेटीएम ने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया है कि लोग अपने घरों में सुरक्षित रहकर सभी आवश्यकभुगतान कर सकें। कंपनी ने पेटीएम यूआई ऐप को अपग्रेड किया है और ‘स्टे एट होम एसेंशियल पेमेंट्स’ सेक्शन जोड़ा है, जिसके माध्यम सेमोबाइल और डीटीएच रिचार्ज, बिजली, पानी, गैस, क्रेडिट कार्ड और बीमा प्रीमियम तथा अन्य भुगतान किया जा सकता है।

कृपया नीचे दिए गए विभिन्न खंडों के सभी प्रमुख डेटा पॉइंटर्स देखें, यहाँ पेटीएम ने दर्ज की गई वृद्धि को आपके संदर्भ के लिए पेश किया है।

– मोबाइल रिचार्ज में 42 प्रतिशत की वृद्धि
– डीटीएच रिचार्ज में 58 प्रतिशत की वृद्धि
– ब्रॉडबैंड / डाटा कार्ड बिल भुगतान में 200 प्रतिशत की वृद्धि
– किराने के सामान पर खर्च में 30 प्रतिशत की वृद्धि
– दवाओं के लिए भुगतान में 30 प्रतिशत की वृद्धि
– दूध के लिए खर्च में 15 प्रतिशत की वृद्धि
– गेमिंग प्लेटफार्म के लिए लेनदेन में 60 प्रतिशत की वृद्धि
– आॅनलाइन ग्राॅसरी प्लेटफार्म के लिए लेनदेन में 35 प्रतिशत की वृद्धि
– स्ट्रीमिंग सेवा के लिए लेनदेन में 230 प्रतिशत की वृद्धि

लॉकडाउन के दौरान हमने आवश्यक भुगतानों जैसे रिचार्ज, उपयोगिता भुगतान, बीमा प्रीमियम, आदि में वृद्धि दर्ज की है। बहुत से उपयोग कर्ता पेटीएम ऐप पर उपलब्ध विभिन्न भुगतान प्रणालियों पर भरोसा कर रहे हैं और हमारी टीम मजबूत साझेदारी को सुनिश्चित करनेपर काम कर रही है। हमें विश्वास है कि अधिक से अधिक भारतीय अब डिजिटल भुगतान की सुविधा को समझेंगे और इसे अपनाएंगे, ”पेटीएम के प्रवक्ता ने कहा। सामाजिक दूरी के प्रावधानों ने लोगों को वर्चुअल दुनिया से जोड़ दिया है। वे सूचना और मनोरंजन के लिए मोबाइल और टीवी से जुड़ गए हैं।

मोबाइल रिचार्ज में 42 प्रतिशत की वृद्धि
डीटीएच रिचार्ज में 58 प्रतिशत वृद्धि
ब्रॉडबैंड/डाटा कार्ड बिल भुगतान में 200 प्रतिशत की वृद्धि

अग्रणी डिजिटल भुगतान और वित्तीय सेवा प्लेटफॉर्म पेटीएम ने यह सुनिश्चित करने का प्रयास किया है कि देश के नागरिक अपने घरों मेंसुरक्षित रहते हुए सभी आवश्यक भुगतान कर सकें। टीम ने पेटीएम ऐप यूआई को अपग्रेड करने के लिए बहुत समर्पित होकर काम किया हैऔर ऐप में ‘स्टे एट होम एसेंशियल पेमेंट्स’ सेक्शन जोड़ा है, जिसके द्वारा मोबाइल और डीटीएच रिचार्ज, बिजली, पानी, गैस, क्रेडिट कार्डऔर बीमा प्रीमियम तथा अन्य भुगतान किया जा सकता है।

कंपनी के अनुसार इस लॉकडाउन के दौरान लोग पेटीएम ऐप के द्वारा अपने स्थानीय किराना, दूध और दवा दुकानों में डिजिटल भुगतान कररहे हैं। और प्रति लेन-देन की मात्रा भी बढ़ गई है।

पेटीएम कोविड-19 के बारे में देशवासियों को शिक्षित करने का काम भी कर रही है। इसने अपने ऐप पर रुप्दकपंथ्पहीजेब्वतवदं सेक्शन के तहत एक ‘सूचना और सहायता केंद्रश् की शुरुआत की है। इस सेक्शन में एक कोविड-19 स्व-मूल्यांकन स्कैनिंग उपकरण भी है, जो लोगों को वायरससे पीड़ित होने की संभावना को समझने में मदद करती है। इसके अलावा, कंपनी उपयोगकर्ताओं को पेटीएम ऐप पर दर्जनों राष्ट्रीय और क्षेत्रीयसमाचार पत्रों तक मुफ्त पहुंच भी प्रदान कर रही है।

कोविड के भारत में आने के साथ ही पेटीएम ने इसके खिलाफ लड़ाई में सहयोग करना शुरू कर दिया था। जब सरकार ने पीएम केयर फंडलॉन्च किया था, तब कंपनी अपने उपयोगकर्ताओं के सहयोग से 500 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य लेकर इस नेक काम में जुट गयी थी। पेटीएमश् फीड माय सिटी’ पहल के तहत मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, हैदराबाद और नोएडा में दैनिक मजदूरों को भोजन प्रदान कर रही है।

इस काम में केवीएन फाउंडेशन पेटीएम का साथ दे रही है। कंपनी उपयोगकर्ताओं को पेटीएम ऐप के माध्यम से दान करने का अनुरोध कर रही है, ताकि इनपहलों को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाया जा सके। इस नेक काम में सहयोग के लिए बड़ी संख्या में लोग आगे आ रहे हैं और इन दोनों पहलों के लिए दान कर रहे हैं।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *