जी उठीं नवाबों के जमाने की कहानियां: अंतारा सीनियर लिविंग ने अविका में पेश किया दस्तरख्वान

देहरादून (हेमप्रकाश आर्य)। मैक्स ग्रुप की पेशकश- अंतारा सीनियर लिविंग ने अविका में 23 व 24 जून 2018 को शाही मुगलई दावत ’दस्तरख्वान’ का आयोजन किया। ईद के जश्न को विस्तार देते हुए अंतारा सीनियर लिविंग ने नवाबों की नगरी लखनऊ के जायकों को पेश किया और अपने निवासियों को मिलजुल कर खाने-पीने की रवायत का आनंद प्रदान किया। दो दिवसीय इस दावत में अंतारा ने अपने मेहमानों की खिदमत में शाही और पारम्परिक लखनवी तहजीब का लुत्फ पेश किया। यहां मुगलई, कश्मीरी और हदराबादी शैलियों के विभिन्न व्यंजन परोसे गए जिनका मेहमानों ने प्रसन्न होकर आनंद लिया।

इस अनुभव को जीवंत किया अंतारा सीनियर लिविंग के हैड क्विजीन क्रिएशन शैफ अरुण करारा ने, जिन्होंने अपनी विशेषज्ञता से मुगल रसोई के सुस्वादु पकवान अविका में प्रस्तुत किए। उन्होंने पारम्परिक तरीकों जैसे धूंगर (धुंए का इस्तेमाल), जमींदोज (धरती में गढ्ढा खोद के पकाना) और दम का इस्तेमाल करते हुए अवधी का अनोखा अंदाज पेश किया।खानपान के इस मजेदार आयोजन के बारे में अंतारा देहरादून के जनरल मैनेजर जिष्णु वेलियाथ ने कहा, ’’हमारी हमेशा कोशिश रहती है कि दुनिया भर से अच्छी चीज़ें अपने निवासियों के लिए उपलब्ध कराई जाएं और ऐसे में हमारी अपनी संस्कृति के एक हिस्से को फिर जीने से बेहतर अनुभव भला और क्या होगा। हमारी टीम के निरंतर प्रयास व लगन के चलते हमने अपने परिसर में नवाबों की शाही वक्त को कामयाबी के साथ फिर जिंदा कर दिया। आशा है कि हम आगे भी अपने निवासियों के लिए ऐसे ही बेहतरीन अवसर मुहैया कराते रहेंगे।’’

अंतारा का खानपान संबंधी फलसफा इस बात पर बल देता है कि स्थानीय एवं खेत की ताजा पैदावार के साथ स्वास्थ्यवर्धक एवं स्वादिष्ट व्यंजन तैयार किए जाएं। फूड पार्टनर नेटवर्क हमें खेतों एवं ताजा उपज से जोड़ता है जहां से हम सर्वोत्तम ऑर्गेनिक व ताजा उत्पाद प्राप्त करते हैं। ख्याल रखने के जज्बे के संग हमारे शैफ पारम्परिक रेसिपी और ऑर्गेनिक उत्पादों के मिश्रण से उत्कृष्ट खानपान की रचना करते हैं जिनमें ’घर के खाने’ की विशिष्ट गर्माहट मौजूद रहती है। पूरी तरह पौष्टिक ये सुस्वादु व्यंजन निवासियों की जीवनशैली के मुताबिक तैयार किए जाते हैं। अंतारा सीनियर लिविंग के हैड क्विजीन क्रिएटर शैफ अरुण करारा ने फूड फैस्ट का अनुभव साझा करते हुए कहा, ’’अंतारा ने मुझे व मेरी टीम को बहुत बढ़िया मौके दिए हैं कि हम भारत के विभिन्न व्यंजनों को आजमा सकें और खानपान के जरिए अतीत का यह सफर बहुत ही तृप्तिदायक रहा है। यहां निवासियों को विभिन्न अनुभव देने के लिए निरंतर कोशिशें होती रहती हैं और ऐसे विकसित होते संगठन के साथ हमें भी अपनी अभिरुचियों व जज्बे को विकसित करने व नए प्रयोग करने का सुअवसर मिलता रहता है।’’

दो दिवसीय इस आयोजन में अंतारा ने मेहमानों का स्वागत पारम्परिक खुशआमदीद (गुलाबी बादाम शर्बत) और शोरबे (मुर्ग यख्नी और मकाई) से किया, साथ में लखनवी खासियत कबाब (शाकाहारियों के लिए भरवां आलू कबाब व कमल ककड़ी की शम्मी तथा मांसाहारियों के लिए लखनवी गलावटी कबाब, मुर्ग पोटली कबाब) भी थे। मेन कोर्स मध्य एशिया की पाक शैली से प्रेरित था जिसमें शामिल थे- नजाकत और नफासत से (सुल्तानी दाल, धींगड़ी डोल्मा, कटहल के कोफ्ते, ज़्ाींदोज मछली, बादामी मुर्ग कोरमा, मोतिया चिलमन पुलाव, अवधी मुर्ग दम बिरयानी, खमीरी रोटी, शीरमाल और कीमा नान)। नवाबी खानपान और उनके किस्सों का यह आयोजन ’दस्तरख्वान’ 24 जून 2018 को समाप्त हुआ। ऐसा ही खानपान का एक आयोजन 21 व 22 अप्रैल 2018 को अविका में पहले भी आयोजित किया जा चुका है।

 

अंतरा सीनियर लिविंग के बारे में

अंतरा सीनियर लिविंग मैक्स इंडिया ग्रुप का हिस्सा है जो अच्छी जीवनशैली व देखभाल मुहैया कराने वाले रिहाइशी समुदायों की रचना करते हुए वरिष्ठ नागरिकों के जीवन सुधार पर ध्यान केन्द्रित करता है। पहले अंतरा समुदाय की शुरुआत 15 अप्रैल 2017 को देहरादून में हुई थी। तेजी से बदलते सामाजिक हालात के चलते भारत में सीनियर लिविंग का कॉन्सेप्ट तेजी से बढ़ते कारोबार की शक्ल अख्तियार कर रहा है जिस पर अभी ज्यादा कुछ किया नहीं गया है। मैक्स ग्रुप के मूल्यों ’सेवा भाव, विश्वसनीयता और उत्कृष्टता’ के मुताबिक काम करते हुए इस पहल का उद्देश्य ऐसे समुदायों का निर्माण करना है जो अपने रहवासियों को स्वास्थ्यकर, सक्रिय व आनंदकारी जीवन मुहैया करा सकें। अधिक जानकारी के लिए विजिट करें www.antaraseniorliving.com

मैक्स ग्रुप के बारे में

मैक्स ग्रुप एक अग्रणी भारतीय बहु-व्यापारिक समूह है जो जीवन बीमा, स्वास्थ्य व संबंधित कारोबारों व पैकेजिंग उद्योग में प्रमुखता से मौजूद है। वित्त वर्ष 2015 में इस समूह ने 14,877 करोड़ रुपए का समेकित टर्नओवर दर्ज किया। दिनांक 31 मार्च 2015 तक इसका सकल उपभोक्ता आधार 75 लाख से अधिक था, करीबन 300 दफ्तर पूरे भारत में फैले थे और लगभग 17,000 लोग इसके लिए काम कर रहे थे। इस समूह के निवेशकों में जानेमाने वैश्विक वित्त संस्थान शामिल हैं जैसे गोल्डमैन सैक्स, आईएफएस वॉशिंगटन, टेमासेक, फिडेलिटी व न्यू यॉर्क लाइफ।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply