लोगों को आकर्षित कर रहे है दून हाट में हथकरघा और हस्तशिल्प से बने उत्पाद -जानिए खबर

उत्तराखण्ड से अमेरिका तक मशहूर हुए थारू जनजाति द्वारा बनाये गये उत्पाद

देहरादून। हथकरघा और हस्तशिल्प को बढ़ावा देने के लिए नावार्ड योजना के अन्तर्गत नवनिर्मित दून हाट में उत्तराखण्ड हथकरघा और हस्तशिल्प विकास परिषद् की ओर से कार्यशाला का आयोजन किया गया। एकीकृत विकास एवं प्रोत्साहन योजना के तहत पिछले तीन वर्षों से उत्तराखण्ड जनपदों के 15 अलग-अलग ब्लाॅकों में काॅपर, रिंगाल, मूंज आदि के उत्पाद तैयार किये जाते हैं।

 handloom, handicrafts

बता दें कि यह योजना विशेष रूप से अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के लोगों के लिए बनाई गई है। मूंज की डिजाईनर अभिरूचि चंदेल ने कार्यशाला के दौरान बताया कि इस वक्त उनके पास दो सौ से अधिक महिलाऐं व पुरूष मूंज, तांबा के उत्पादों को बनाते हैं। कार्यशाला में अभी छः महिलाऐं मूंज के उत्पाद बना रही हैं।

उन्होंने बताया कि खटीमा ऊधमसिंह नगर में मूंज विशेष रूप से थारू जनजाति के लोग ही बनाते हैं। मूंज के उत्पादों में रोटी की टोकरी, प्लांटर, डस्टबिन, फ्रूट बास्केट, ज्वैलरी केंटेनर, टेबल मैट, पेपर वेट, कोस्टरस आदि बनाये जाते हैं। अभिरूचि ने बताया कि ये सारे उत्पाद 80 से 1500 रूपये में बिकते हैं।

handloom, handicrafts

हाल ही में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर उत्तराखण्ड के उत्पादों की प्रदर्शनी लगाई गयी, जहां उत्तराखण्ड के उत्पादों को एक पहचान मिली। ऐंपण की डिजाईनर मंमता जोशी ने कार्यशाला के दौरान बताया कि दून हाट प्रदर्शनी में हल्द्वानी से ऐंपण के उत्पाद बनाने वाली 8 महिलाऐं आयी हैं जो टेª, कोस्टरस, वाॅल हैंगिंग, वास्केट, स्टाॅल, कुसन, डायरी, फाईल फोल्डर आदि बना रही हैं जो प्रदर्शनी में 100 रूपये से लेकर 6000 रूपये तक में उपलब्ध हैं।

दून हाट में राज्य के शिल्पियों द्वारा विकसित किये गये विभिन्न उत्पादों की प्रदर्शनी 16 दिसंबर तक आयोजित की जा रही है, जिसमें हिमाद्री के साथ ही उत्तराखण्ड के सभी जनपदों के हथकरघा एवं हस्तशिल्प के स्टाॅल लगाये गये हैं। जहां शुक्रवार को दून हाट में लोगों का अच्छा रूझान देखने को मिला।

handloom, handicrafts

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *