प्रतिदिन 400 लोग नहीं आते घरः रोड सेफ्टी के लिए इंडिया गेट पर एकजुट हुए हजारों लोग

नई दिल्ली। वाहन चालकों के खराब व्यवहार तथा रोड सेफ्टी नियमों के प्रति लापरवाही के कारण पिछले एक दशक में, सड़क दुर्घटनाएं लोगों के जीवन में चर्चा का विषय बना हुआ है। देश में अप्राकृतिक मृत्यु का सबसे बड़ा कारण सड़कों पर होने वाली मौतों का हैं।

Roadsafity Campain India Gate
ज्ञातव्य हो कि प्रतिदिन लाखों भारतीय ड्राइवर सड़कों पर चलते हैं और उनमें से प्रतिदिन लगभग 400 लोग घर वापस नहीं आते हैं। इसका मुख्यं कारण है वाहन चालकों का खराब व्यवहार तथा रोड सेफ्टी नियमों के प्रति लापरवाही।

बता दें कि बीते दिन इस संबंध में जानीमानी एनजीओ डी2एस ने रोड सेफ्टी वीक के मौके पर इंडिया गेट में राष्ट्रीय मानव श्रृंखला “एक करोड़ हाथ साथ-साथ” कैंपेन का आयोजन किया। इस मुहिम से जुड़ने के लिए स्कुल, कॉलेज, विश्वविद्यालय, अथवा कई जानी-मानी संस्थाओं के लगभग 1500 छात्र-छात्राओं ने एकजुट होकर मानव श्रृंखला बनाई। इस मौके पर वहां मौजूद सभी लोगों ने यातायात नियमों का पालन करने का संकल्प लिया तथा एक साथ हाथ मिलाकर इस कैंपेन को आगे बढ़ाया।

NGO D2S

इस मौके पर डी2एस के डायरेक्टथर रामाशंकर पांडे ने एक ऐप भी लांच किया, जो वाहन चालकों का मूल्यांकन करेगा। इस ऐप का उपयोग लोग केवल कोड ऑफ कनडक्ट के 6 बिंदुओं पर अपने हस्ताक्षर कर फ्री में कर सकेंगे।

उन्होंन रोड सेफ्टी के नियमों और अनुशासन के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए स्कूसल, कॉलेज तथा कई प्राइवेट तथा सरकारी संगठनो के साथ मिलकर “सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा” के नारे भी लगाए और इस एक्शन ओरिएंटेड कैंपेन के राष्ट्रीय मानव श्रंखला हैस टैग वन करोड़ हाथ साथ-साथ से जुड़ने की मुहिम को सफल बनाया। यह कैंपेन सड़कों पर यातायात संबंधी समझ में बदलाव को सामूहिक शक्ति देना तथा लोगों को रोड सेफ्टी के प्रति जागरूक करने के लिए किया गया। इस कैंपेन का उद्देश्य देश भर के 100 से अधिक शहरों में रोड सेफ्टी वीक 2019 में साथ जुड़ने के लिए है।

– स्मिता ठाकुर

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply