वरिष्ठ पत्रकार चारू चंद्र चंदोला का निधनः मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिए की ईश्वर से प्रार्थना

देहरादून। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने साहित्यकार एवं वरिष्ठ पत्रकार श्री चारू चंद्र चंदोला के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत की आत्मा की शांति एवं दुःख की इस घड़ी में उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है।

गौरतलब है कि वरिष्ठ साहित्यकार एवं पत्रकार चारु चंद्र चंदोला का शनिवार देर रात करीब 11.45 बजे निधन हो गया। विदित है कि बीते सोमवार 13 अगस्त को मस्तिष्क आघात (ब्रेन हेमरेज) के बाद उन्हें दून अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती कराया गया था। जहां वे पिछले पांच दिनों से जिंदगी की जंग लड़ रहे थे। वे अपने पीछे पत्नी राजेश्वरी चंदोला बेटी सैफाली और साहित्या का भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं। उनकी बड़ी बेटी की शादी हो चुकी है, वे मुंबई में रहती हैं। छोटी बेटी 18/12 पटेल मार्ग स्थित आवास में अपनी मां के साथ रहती हैं। 22 सितंबर, 1938 में मम्यो (अब म्यांमर) में जन्मे चंदोला का बाल्यकाल पौड़ी जनपद के सुमाड़ी गांव में अपने मामा के घर पर बीता।

यहीं उनकी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा भी हुई। इसके बाद डीएवी पौड़ी से हाईस्कूल, ईविंग क्रिश्चियन कॉलेज, इलाहाबाद से इंटर और फर्ग्यूसन कॉलेज, पुणे से उन्होंने स्नातक किया। कई पत्र-पत्रिकाओं में अपनी सेवाएं देने के साथ चारु चंद्र चंदोला का साहित्य सृजन भी निरंतर जारी रहा। ‘अच्छी सांस’, ‘चलते-चलाते’, ‘उगने ने दो दूब’, ‘कुछ नहीं होगा’, ‘बिन्सरि’, ‘पौ’, ‘कविता में पहाड़’ आदि उनके प्रमुख काव्य संग्रह हैं। चारु चंद्र चंदोला की लेखनी में पहाड़ हमेशा प्रमुखता में रहा। वे प्रमुख अखबारों में छपने वाले अपने कॉलम ‘सरग दिदा’ में पहाड़ के ज्वलंत मुद्दों को लेकर दहाड़ते थे, तो अपनी काव्य रचनाओं में उतनी ही सौम्यता से पहाड़ की सुंदरता का बखान भी करते थे।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पत्रकारिता एवं साहित्य के क्षेत्र में दिवंगत श्री चारू चंद्र चंदोला के अभूतपूर्व योगदान को हमेशा याद किया जायेगा। उन्होंने कहा कि स्व. चारू चंद्र चंदोला अपनी काव्य रचनाओं में पहाड़ की संुदरता का वर्णन बड़ी ही सौम्यता से किया करते थे। वे अपने लेखों में पहाड़ की भौगोलिक, सांस्कृतिक व प्राकृतिक परिस्थितियों को जीवंतता से उजागर किया करते थे। मुख्यमंत्री ने स्व.चारू चंद्र चंदोला के निधन को साहित्य एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में अपूरणीय क्षति बताया है। वहीं मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र के मीडिया सलाहकार श्री रमेश भट्ट ने दिवंगत श्री चारू चंद्र चन्दोला के आवास पर जाकर मुख्यमंत्री की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने शोक संतप्त परिवारजनों को सांत्वना दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *