चेचक जैसी घातक बीमारी से बचाव करने वाले वैज्ञानिक को शंखनाद जनचेतना मंच ने किया याद

चेचक टीके के खोजकर्ता जेनर को किया याद

पिथौरागढ़ (हरदौल वाणी)। शंखनाद जनचेतना मंच ने चेचक जैसी घातक बीमारी से बचाव के लिए टीके की खोज करने वाले एडवर्ड जेनर के जन्म दिन पर उन्हें याद किया। कच्चाहारी कुटी में आयोजित कार्यक्रम में मंच के कार्यकर्ताओं ने एडवर्ड जेनर के महान योगदान को याद करते हुए कहा कि उनकी अथक मेहनत से ही टीके की खोज हो सकी और दुनिया के लोगों को इस घातक बीमारी से निजात मिल पाई।

बता दें कि युवा कवि एवं मंच के निदेशक ललित शौर्य ने कहा कि टीके की खोज से पहले हर वर्ष लाखों लोग इस बीमारी की चपेट में आकर मौत का शिकार हो जाते थे। जेनर की यह खोज मानव सभ्यता के लिए वरदान साबित हुई। उन्होंने अपने जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा इस टीके के शोध के लिए लगा दिया था। जेंनर पूरे विश्व के लिए नमनीय एवं पूज्यनीय हैं।

डां कच्चाहारी ने जेनर को एक संत चिकित्सक की उपाधि देते हुए कहा कि आज के चिकित्सकों को उनसे सीख लेने की जरू रत है। सामाजिक चिंतक डां तारा सिंह ने कहा जेनर महान शोधकर्ता थे। उनके जीवन का धेय्य मानव मात्र का कल्याण करना था। कार्यक्रम में गंगादत्त जोशी, आशा मोहन, हीराबल्लभ पांडे, भावना धामी, गुंजन द्विवेदी, मेघा सिंह, आयुष जोशी, रोहित पुजारी, शालिनी पंत, प्रकाश वर्मा, पुष्पा सती, अदिति सहित तमाम लोगों ने विचार रखे।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply