ईश्वर के दर्शन बिना कर्म संभव; “क्रिया साध्य नहीं है कृपा साध्य है ब्रह्म की प्राप्ति; सदगुरु की कृपा से…

सत्गुरु की असीम कृपा से निरंकार प्रभु के दर्शन हुए, इस निरंकार प्रभु तत्व की जानकारी प्राप्त हुई। अब जिज्ञासा होती

Read more