मानव जाति के अदृश्य शत्रु ने ली पूरे विश्व में 37 हजार से ज्यादा लोगों की जान; सात लाख संक्रमित -जानिए खबर

– प्रोफेसर ललित तिवारी, नैनीताल

नैनीताल। कोरोना ने दुनिया क¢ 200 देशों को अब तक हिला कर रख दिया है। कई देश भारत सहित अधिकांश यूरोपीय देशों तथा अमेरिका में लाॅकडाउन हो चुका है। कोरोना महामारी जिसका स्तर वैश्विक है जो एक विषाणु है जो दिखायी तो नहीं देता किन्तु पूरा विश्व एवं मानव जाति इससे प्रभावित हो रही है।

बता दें कि इसके संक्रमण से इटली जैसा देश जिसकी विश्व में स्वास्थ्य सेवायें नम्बर दो की है वहाॅ दस हजार लोग इस वायरस का शिकार हो चुके है। स्पेन, चीन, अमेरिका का भी यही हाल है। पूरे विश्व में 785,807 लोग संक्रमित हो चुके है तथा 37,820 लोग जान दे चुके है। भारत में अक तक 1400 लोग संक्रमित हो चुके है तो 33 जान दे चुके है तथा कुल 85 लोग ठीक हुए है। उत्तराखण्ड में 7 मरीज संक्रमित मिल चुके है तथा 365,328 लोग संक्रमण के बाद ठीक हो चुके है।

वहीं विश्व में कोरोना से होने वाली मौत का दर हालांकि 3 प्रतिशत ही है। किन्तु इतिहास में यह मानव का सबसे बडा संघर्ष है। इन सबके मध्य भारत सरकार ने भी लाॅकडाउन किया जो समय तथा परिस्थितियों के मुताबिक सही निर्णय था किन्तु आनंद बिहार दिल्ली आदि अन्य स्थानों पर गरिब मजदूरों की भीड़ जिसमें पलायन की समस्या के साथ-साथ कोरोना को ये मद्द कर सकतें है।

ऐसे में शान्ति रखना, मनोबल बनाये रखना देशहित, मानवहित के बारे में सोचना सर्वोपरी है जब हम बचेगें तभी दूसरा भी बचेगा। हम सुरक्षित तो देश सुरक्षित। कोरोना से लड़ना तथा मानवता को बचाना है उसे सुरक्षित रखना है। आज संसार के सभी डाक्र्टस, नर्सेज, पेरामेडिकल, पर्यावरणमित्र, पुलिस, समाज सेवी, बेंर्कस जो स्वर्य कार्य करते हुऐ मानवता की श्रेष्ठ मिशाल प्रस्तुत कर है।

कोरोना एक ऐसा खतरनाक विषाणु है जिससे सावधानी रखकर ही बचा जा सकता है किन्तु यदि हम अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन नही करते है तो ये हमारी ही नहीं मानवता की हार होगी। इसलिए नियमों पालन करना ही एकमात्र विकल्प है जब खुद सरक्षित होगें तभी देश एवं विश्व के लिए कार्य कर पायेगें।

प्रधानमंत्री महोदय की अपिल पर लोगों ने भी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ायें है किन्तु पूरा विश्व में जब गाडी बनाने वाले वेंट्रीलेटर बनाने की तरफ बढ़ रहे हे तो ऐसे में मानव का वर्तमान दुश्मन कोरोना अदृश्य है किन्तु बढ़ा ही घातक है। पूरा विश्व वैज्ञानिक वैक्सीन बनाने की तरफ प्रयासरत है किन्तु उसमें समय लगेगा तथा स्वयं को सुरक्षित रखनें के लिए सावधान रहना होगा।

कहीं ऐसा ना हो कि वैक्सीन बनाने तक बड.ी संख्या में लोगों को खो दे। यह विचारणीय प्रश्न है वायरस के प्रभाव को रोकना यह हमारा प्रथम कर्तव्य है। आइए इस लड़ाई को कारगर करे, अभी तो इससे लड़ने के बाद आर्थिक स्तर भी बेहतर करना होगा जिससे देश के आर्थिक हालाथ बेहतर हो सकें ओर मानवता की जीत सुनिश्चित कर सकें।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *