‘मेक इन इंडिया’ का पुनर्जीवन लाॅकडाउन के बाद भारतीय आॅटोमोटिव उद्योग को सक्षम बनाने वाले मुख्य कारक होंगे -जानिए खबर

– एनआरआई कंसल्टिंग रिपोर्टज

देहरादून। दुनिया भर में नोवेल कोरोनो वायरस बीमारी का कहर जारी है और इसने मानवता के लिए काफी बड़ी चुनौती खड़ी कर दी ह,ै वैसे में इस संकट का भारत सहित विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्था पर विनाशकारी प्रभाव स्पष्ट तौर पर दिख रहा है और आने वाले महीनों में इस प्रभाव के और बढ़ने की संभावना है।

चूंकि मोटर वाहन उद्योग का हिस्सा भारत के औद्योगिक सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 50 प्रतिशत है और यह क्षेत्र प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान करने वाले सबसे बड़े नियोक्ताओं में से एक है। इस सिलसिले में नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट (एनआरआई) कंसल्टिंग एंड साॅल्युशंस इंडिया ने उन उपायों के बारे में विस्तृत अध्ययन किया है कि कैसे यह उद्योग कोरोना वायरस के प्रभावों की कुछ हद तक भरपाई करते हुए दोबारा अपना कार्यकलाप शुरू कर सकता है।

हालांकि अनेक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय निकायों और फर्मों ने इन प्रभावों के कारण उत्पन्न परिदृश्यों का बेहतर तरीके से दस्तावेजीकरण किया है लेकिन यह रिपोर्ट भारत में मोटर वाहन मूल्य श्रृंखला के चरणों में सूक्ष्म स्तर की चुनौतियों की व्याख्या करती है और वैसे उपयुक्त समाधान सुझाती है जिन्हें संचालन के लिए शामिल किया जा सकता है।

रिपोर्ट अलग-अलग कंपनियों के लिए विभिन्न चरणों के संदर्भ और कॉन्फिगरेशन के आधार पर मूल्य श्रृंखला के प्रत्येक चरण में सामने आने वाली चुनौतियों को प्रस्तुत करती है जैसे उत्पाद विकास, खरीद, विनिर्माण, वित्त, रसद, बिक्री, विपणन और आफ्टर सेल्स।

रिपोर्ट में उपर्युक्त विशयों में से प्रत्येक विशय के लिए अलग-अलग स्ट्रेटेजिक इम्पीरेटिव्स का समाधान किया गया है जो तात्कालिक फोकस एवं उसके बाद के चरणों को परिभाषित करता है, जो लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद ऑटोमोटिव सेक्टर को फिर से जमने में मदद करेगा।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस संकट ने भारतीय ऑटो पार्ट निर्माताओं के लिए एक अवसर लाया है जो बदलते भू राजनीतिक दुनिया के क्रम में चीन के लिए एक विकल्प बनकर वैश्विक मूल्य श्रृंखला में अपनी भागीदारी बढ़ा सकता है और कुछ मामलों में, प्रौद्योगिकी को हासिल किया जाना संभवतः अनिवार्य होगा।

दुनिया भर में वित्तीय संकट को देखते हुए, इस अवधि में देश में अधिक आर्थिक रूप से सुदृढ़ कंपनी भी फर्मों और प्रौद्योगिकियों का अधिग्रहण कर सकते हैं और इससे उन्हें ‘मेक इन इंडिया’ की भावना को आगे बढ़ाते हुए प्रभावी विकल्प के रूप में स्थिति बनाने में मदद मिलेगी।

एनआरआई (नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट) कंसल्टिंग एंड सॉल्यूशंस के बिजनेस परफॉरमेंस इम्प्रूवमेंट (ऑटो, इंजीनियरिंग एंड लॉजिस्टिक्स) के समूह प्रमुख एवं पार्टनर आशिम शर्मा ने कहा, ‘‘स्वच्छता और कीटाणुशोधन (डिसइंफेक्शन) की उभरती जरूरतों, स्थानीयकरण, अधिक स्वचालनी, डिजिटलीकरण और वित क्षेत्र में नवाचारों तथा सरकार द्वारा आर्थिक प्रोत्साहन वक्त की जरूरत है और यह संकट में मार्ग प्रशस्त करेगा। फैक्टरियों में कार्य शुरू करने के लिए अस्पतालों को चलाने की तरह के सुरक्षित कार्यप्रणाली के लिए स्पष्ट दिशानिर्देश और नीति, माल की अंतरराज्यीय आवाजाही, ब्याज दरों में कमी, पर्याप्त अधिस्थगन अवधि, राजकोषीय और गैर राजकोषीय उपाय जैसे कि सब्सिडी और स्क्रैपेज नीति के माध्यम से मांग उत्पन्न करना तथा ‘मेक इन इंडिया’ अभियान को काफी बड़े पैमाने पर आगे बढ़ाने जैसे कदम लाॅकडाउन के बाद के चरण में भारतीय आॅटोमोटिव क्षेत्र के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित होंगे।’’

हालाँकि, रिपोर्ट में यह भी चेतावनी दी गई है कि सभी उपायों के बावजूद, कोरोना वायरस का संक्रमण अभी भी फैल सकता है और इसे नियंत्रित एवं सीमित करने के लिए आपूर्तिकर्ता स्थल से लेकर सामान लाने वाले ट्रक से लेकर इन जगहों पर काम करने वाले लोगों तथा वाहनों के लाए जाने तथा इन वाहनों को बेचने वाले सेल्स एजेंटों तक की सही तरीके से ट्रैसेबिलिटी अत्यंत आवश्यक होगी। इसलिए संपर्क में आने वाले लोगों के डिजिटल हस्ताक्षर लेने की प्रौद्योगिकी का उपयोग तथा पूरी मूल्य श्रंखला के दरम्यान इसे कायम रखना जरूरी होगा ताकि संक्रमण फैलने की स्थिति में तत्काल एवं प्रभावी नियंत्रण किया जा सके।

अंतिम तौर पर उत्पन्न होने वाले परिदृश्य से परे यह रिपोर्ट उन नई स्थितियों को भी दर्शाती है जिसके लिए संकट के खत्म होने के बाद ऑटोमोटिव उद्योग को तैयार रहना चाहिए।

श्री शर्मा ने कहा, ‘‘संक्षेप में, जीवन को बचाते हुए हमें आने वाली नई स्थितियों के साथ रहने की जरूरत होगी और यह हमारा प्राथमिक उद्देश्य होना चाहिए। हमें ऐसी रणनीतियों को भी लागू करनी चाहिए जो आजीविका को सुनिश्चित कर सके और देश के लाखों लोगों की आजीविका पर पड़ने वाले विनाशकारी प्रभाव को भी सीमित कर सके तथा साथ ही वैष्विक पारिस्थितिकी में अपने देष्श् को स्थापित कर सके।’’

रिपोर्ट में राजकोशीय और गैर-राजकोशीय साधनों के माध्यम से स्थिति को सक्षम बनाने में मदद करने के लिए सरकार से अपील की गई है। रिपोर्ट में जिन प्रमुख चीजों की सिफारिश की गई है उनमें चिकित्सा और स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ मिलकर तैयार किया गया इस तरह का स्पष्ट दिशानिर्देश है कि किस चीज की अनुमति होगी और किस चीज की अनुमति नहीं होगी।

रिपोर्ट में उद्योग को दोबारा शुरू करने के लिए उत्प्रेरक के तौर पर व्यावसायिक योजनाओं और प्रोत्साहन पैकेजों तथा सुरक्षा, उत्सर्जन, आदि से संबंधित नीतियों के संबंध में निरंतरता के बारे में भी कहा गया है।

मुख्य सिफारिशें

  • बाहरी सतह को किटाणुरहित करने के लिए काॅस्मेटिक डिजाइन संबंधी बदलावों को लागू करने जैसे उपभोक्ताओं की विकसित होती जरूरतों एवं नए उत्पादों के लिए बाजार मूल्य में महत्वपूर्ण कमी जैसे उत्पाद विकास के उपाय महत्वपूर्ण साबित होंगे। साथ ही साथ मौजूदा क्लीन मोबिलिटी समाधानों पर भी ध्यान जारी रखना होगा।
  • स्थानीयकरण को बढ़ावा दिया जाना तथा आपूर्ति निरंतरता आधारित इंवेंट्री नीतियों की महत्वपूर्ण समीक्षा के साथ आपूर्ति निरंतरता सुनिश्चित करना।
  • कारखानों में श्रमिकों की सुरक्षा, उन्नत स्वास्थ्य और सुरक्षा उपायों में बढ़ोतरी और आॅटोमेटेशन को बढ़ावा दिया जाना।
  • डिजिटलीकरण में निवेश, वित्तपोषण में नवाचार, डीलरशिप और सेवा केंद्रों में स्वास्थ्य के लिए मानक प्रक्रियाएं।
  • पूरी आपूर्ति श्रंखला में ट्रैक एवं ट्रेस के लिए अधिक उपाय, न केवल कल-पूर्जों के लिए बल्कि संपर्क में आने वाले श्रमिकों के लिए भी ताकि संक्रमण की स्थिति में प्रभावी तरीके से नियंत्रण किया जा सके।
  • सुुरक्षा, उत्सर्जन, आदि से संबंधित सरकारी नीतियांे की निरंतरता ताकि अनावश्यक तनाव से बचा जा सके और व्यावसायिक योजनाओं को जारी रखा जा सके।
  • उद्योग को पुनः आरंभ करने के लिए प्रोत्साहन पैकेज।

एनआरआई कंसल्टिंग एंड साल्युशंस के बारे में

एनआरआई कंसल्टिंग एंड साल्युशंस

एनआरआई (नोमुरा रिसर्च इंस्टीट्यूट) कंसल्टिंग एंड सॉल्युशंस एक अग्रणी वैश्विक परामर्श फर्म है जिसे 1965 में जापान में स्थापित किया गया था। आज एनआरआई के पास 15 देशों में 69 कार्यालयों के साथ 4.5 बिलियन अमरीकी डालर का वैश्विक राजस्व है, जिसमें सभी समूह कंपनियां और सहायक कंपनियां शामिल हैं। एनआरआई करीब 13,000 लोगों को रोजगार देता है।

एनआरआई कंसल्टिंग एंड सॉल्युशंस इंडिया 2011 में स्थापित हुआ था और पिछले 8 वर्षों में तेजी से बढ़ा है। एनआरआई इंडिया के पास अब 130 से अधिक प्रोफेशनल्स की ताकत है और उसने 700 से अधिक परियोजनाओं को निष्पादित किया है। एनआरआई इंडिया का ऑटोमोटिव, इंफ्रास्ट्रक्चर, इंजीनियरिंग के साथ-साथ लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन, मैन्युफैक्चरिंग, आरएंडडी, सेल्स, मार्केटिंग और आफ्टर सेल जैसे कई क्षेत्रों में अग्रणी लीडरशिप है और इसने कई ग्लोबल और डोमेस्टिक बहुराष्ट्रीय कंपनियों के साथ कई परियोजनाओं पर काम किया है।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *