भोजनमाताओं का सचिवालय कूच, पुलिस ने रोका

देहरादून। सामाजिक सुरक्षा देने और तीन हजार सरकारी स्कूलों को बंद किए जाने की योजना के विरोध में सोमवार को भोजनमाताओं ने दून में प्रदर्शन किया। उन्होंने सचिवालय तक कूच किया। जहां पुलिस ने उन्हें कुछ पहले रोक दिया।

इंदिरा मार्किट स्थित कार्यालय से भोजन माताओं ने सचिवालय के लिए कूच किया। लेकिन पुलिस बल ने प्रदर्शनकारी भोजनमाताओं को सचिवालय के बाहर मुख्य सड़क पर रोक दिया। बाद में बड़ी संख्या में भोजनमाताएं यहीं धरने पर बैठ गई। साथ ही सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। साथ ही प्रदेश सरकार से तत्काल सभी मांगों को पूरा करने की बात कही। इससे पूर्व सोमवार को उत्तराखंड भोजन माता कामगार यूनियन के बैनर तले दर्जनों भोजनमाताओं ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। यूनियन की अध्यक्ष रोशनी बिष्ट की अगुवाई में सचिवालय कूच को आगे बढ़ीं। लेकिन सचिवालय के बाहर पुलिस ने बेरीकेट्स लगाकर महिलाओं को आगे बढ़ने से रोक दिया। भोजनमाताएं बाद में यहीं सड़क पर बैठ कर धरना देने लगी।

भोजनमाताओं को संबोधित करते हुए यूनियन की महामंत्री मोनिका ने कहा कि उनका शोषण किया जा रहा है। उनके रोजगार को सरकार निजी हाथों में देने की तैयारी कर रही है। इसे कदापि बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। करीब एक घंटे के प्रदर्शन के बाद प्रदर्शन कारी भोजनमाताएं अपने मुख्य कार्यालय को लौट आईं। इस दौरान रैली में अनिता, सुनीता, भावना, यशोदा, पूनम, लक्ष्मी, ममता रानी, ऊषा गुप्ता, पुष्पा चैहान, सुषमा, पूनम देवी, रेखा रानी, विमला देवी, ललिता आदि कई मौजूद रहीं।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply