जैव विविधता सामाजिक जीवन का आधार है को बचाने के लिए सबको मिलकर काम करना होगाः प्रो. रावत

नैनीताल। डीएसपी परिसर के कला संकाय सेमिनार, नैनीताल में बीते दिन वाइल्डलाइफ संस्थान देहरादून के प्रोफेसर श्री एस रावत ने जैव विविधता परिस्थितिक सेवा एवं हिमालय विषय पर व्याख्यान दिया। इस अवसर पर प्रोफेसर रावत ने कहा कि जैव विविधता सामाजिक जीवन का आधार है साथ ही समाज आर्थिक तंत्र एवं पर्यावरण आपस से जुड़े हुए हैं इस तंत्र में बचाने के लिए सबको मिलकर काम करना होगा।

उन्होंने आगे कहा कि सभी को भोजन मिले, शुद्ध पानी मिले, ऊर्जा का उत्पादन बढ़े तथा स्वस्थ एवं उत्पादक परितंत्र हो। जिससे सतत् विकास हो सके। उन्होनें आगे कहा कि 126 देशों ने जैव विविधता को बचाने के लिए हस्ताक्षर किए हैं किंतु जलवायु परिवर्तन रोकने के लिए जैव विविधता को बचाना भी अनिवार्य हैं।

वहीं एशिया क्षेत्र में सभी पारिस्थितिक तंत्र संकट में है। जंगली जानवर अनुवांशिकता तथा विदेशी पादप प्रजातियां जगत में बढ़ रही है। 2050 तक यदि यही हालत रहे तो 45 प्रतिशत जीवन कम हो जाएगा। वहीं मछली का व्यापार बंद हो जाएगा तथा 90 प्रतिशत कोरल खत्म हो जाएगी। अतः हमारे क्षेत्र से पर्यावरण को बचाना विशेषकर हिमालय को बचाना एक चुनौती है।

प्रोफेसर रावत ने कहा कि हिमालया शोध कार्य संयोजन की आवश्यकता है। स्थानीय लोगों को सहभागिता एवं हिस्सेदारी सुनिश्चित हो वहीं लाभ का वितरण में हिस्सेदारी मिलेगी तो स्थानीय लोग संरक्षण की जिम्मेदारी लेंगे। वैश्विक ताप कर्मवीर दी में विदेशी मूल की प्रजातियां बढ़ रही है जो पारिस्थितिक तंत्र के लिए नुकसानदायक है तथा सतत विकास में बाधक है।

पादप विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एस सी सती ने सभी का स्वागत किया कार्यक्रम की अध्यक्षता निदेशक प्रोफेसर एस जोशी ने की कार्यक्रम का संचालन प्रोफेसर ललित तिवारी ने किया। वहीं व्याख्यान में श्रोताओं ने प्रश्न पूछे। कार्यक्रम में प्रोफेसर एस मेहता प्रोफेसर, प्रोफेसर नीरज पांडेय, वाईएस रावत, चंद्रकला रावत, गीता बोरा, पूजा तिवारी, डॉक्टर आशीष, कपिल, अनिल, डॉक्टर किरण वाली, डॉक्टर कुबेर, प्रोफेसर रघुवीर चंद, डॉक्टर गीता, दीपक, मोनू, बाला, श्रुति, नीता सहित नवीन पांडे, पंकज, अवस्थी, भावना, मीनाक्षी सहित भारी मात्रा में शोध छात्र एवं विद्यार्थी मौजूद रहे।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply