मन को पवित्र बनाने के लिए नाशिक महाराष्ट् में निरंकारी मिशन की स्वैच्छिक सेवाएं शुरु -जानिए खबर

महाराष्ट्र का 53वां वार्षिक निरंकारी संत समागम नाशिक में स्वेच्छा सेवाओं का शुभारम्भ

नाशिक। महाराष्ट्र का 53 वां वार्षिक निरंकारी संत समागम नाशिक में परम पूज्य निरंकारी सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज के पावन सान्निध्य में 24, 25 एवं 26 जनवरी, 2020 को होने जा रहा है। बता दें कि नाशिक एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है और पिछले 52 साल से मुंबई में संपन्न होते आ रहे है। बता दें कि सौभाग्य से मन को पवित्र बनाने का यह विशाल आध्यात्मिक समारोह का आयोजन पहली बार नाशिकवासीयों के हिस्से में आया है।

मिशन का सत्य, प्रेम एवं एकत्व का संदेश जनमानस तक पहुंचाना इस समागम का मुख्य उद्देश्य है। स्मरण रहे कि महाराष्ट्र का पहला वार्षिक निरंकारी संत समागम जनवरी, 1968 को मुंबई के प्रसिद्ध शिवाजी पार्क में मिशन के तत्कालीन प्रमुख बाबा गुरबचन सिंह जी के पावन सान्निध्य में संपन्न हुआ था।

समागम की तैयारियों के लिए स्वेच्छा सेवाओं का उद्घाटन संत निरंकारी मंडल के महासचिव ब्रिगेडियर (से.नि.) पूज्य श्री पी.एस. चीमा जी के करकमलों द्वारा रविवार, दिनांक 22 दिसंबर, 2019 को सुबह 11:00 बजे निरंकारी संत समागम स्थल, ठक्कर ग्राउंड, बोरगड, मखमलाबाद, पेठ-धरमपुर गुजरात हायवे, नाशिक में किया गया।

Maharashtra Samagam Ground Sewa

इस उद्घाटन समारोह का प्रारंभ एक प्रार्थना द्वारा हुआ जो इस समागम की सफलता के लिए सद्गुरु माता जी एवं निरंकार प्रभु के चरणों में की गई। इस अवसर पर समागम कमेटी के सदस्य, सेवादल अधिकारी एवं नाशिक एवं आस-पास के इलाकों तथा मुंबई एवं महाराष्ट्र के अलग-अलग स्थानों से हजारों निरंकारी श्रद्धालु भक्त उपस्थित थें। समागम क्षेत्र के म्हसरुळ पुलीस ठाणे के वरिष्ठ पुलीस निरीक्षक श्री पंढरी नाथ रघुनाथ ढोकणे भी इसअ वसर पर मौजूद थे।

वहीं पूज्य श्री चीमा जी ने श्रद्धालु भक्तों का आह्वान किया कि वे बड़ी लगन और श्रद्धा से समागम की सेवाओं में अपना योगदान दें। आपने कहा कि संत निरंकारी मिशन प्यार का मिशन है और प्यार की भावना को बढ़ावा देकर मानव को मानव के साथ जोड़ने का कार्य करता है। आपने प्रतिपादन किया कि सबका परम पिता परमात्मा एक ही है और मानव-मात्र उसकी संतान है। जब कोई परमात्मा से नाता जोडता है तो सभी के प्रति उसके मन में भ्रातृ भाव पैदा होता है।

स्वेच्छा सेवाओं का उद्घाटन होने के बाद निरंकारी सेवादल के स्वयं सेवक एवं बड़ी संख्या में निरंकारी भक्त संत समागम की तैयारियों में जुट गए। ये सेवादार भक्त नियोजनबद्ध तरिके से उनके लिए प्रदान की गई सेवाओं को निष्काम भाव से स्वेच्छा सेवा का एक अनोखा उदाहरण प्रस्तुत करते हुए निभायेंगे।

कुछ ही हफ्तों में इन सेवाओं द्वारा समागम स्थल को टेन्टों एवं शामियानों की एक भव्य नगरी के रुप में परिवर्तित किया जायेगा जिसमें समागम के लिए आने वाले भक्तों के रिहाईश की व्यवस्थाओं के अलावा पानी, बिजली, जल निःसारण, स्वच्छता गृह, मुफ्तलंगर, रियायती दरों में कैन्टीन इत्यादी व्यवस्थायें बनाई जायेगी।

Ground Sewa Nirankariy

बता दें कि समागम स्थल पर मुख्य कार्यक्रम का भव्य पण्डाल बनाया जायेगा जिसके आस-पास विभिन्न कार्यालय, प्रकाश नस्टाल, दवाखाने, निरंकारी प्रदर्शनी इत्यादी के शामिया ने बनाये जायेंगे। उल्लेखनीय है कि समागम के कार्यक्रम की पूरी योजना, डिजाईनिंग एवं क्रियान्वयन निरंकारी भक्तों द्वारा बनाई जाती है जिसे वे आशीर्वाद प्राप्त करने का मौका एवं अपना सौभाग्य समझते हैं।

संत समागम में पूरे महाराष्ट्र से, नजदिकी राज्य गुजरात से एवं भारत के अन्य भागों तथा दूर देशों से लाखों की संख्या में श्रद्धालु भक्त भाग लेंगे। समागम के उपरान्त दिनांक 207 जनवरी, 2020 को समागम स्थल पर ही करीब 100 जोड़ों का सामूहिक विवाह समारोह परम पूज्य सद्गुरु माता जी की पावन सान्निध्य में संपन्न होगा।

ukjosh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *