हर इंसान के लिए परमात्मा का बोध करना जरूरी हैं: पुष्कर सिंह रावत

अंकित टम्टा
मीडिया प्रभारी डोईवाला

डोईवाला। हर इंसान के लिए परमात्मा का बोध करना जरूरी हैं, चाहे कोई किसी भी जाति-धर्म का हो। अमीर-गरीब, सभी मानव परिवार ब्रह्मानुभूति के अधिकारी हैं। किसी को परमात्मा के साथ जोड़ना पुण्य हैं और किसी को परमात्मा के मार्ग पर जाने से रोकना पाप हैं। उक्त उद्गार संत निरंकारी मंडल द्वारा ब्रांच डोईवाला के तत्वाधान में आयोजित रविवारीय सत्संग में प्रचारक महात्मा पुष्कर सिंह रावत ने सतगुरु माता सविंदर हरदेव जी का सन्देश देते हुए व्यक्ति किये।

उन्होंने कहा कि यह मनुष्य जीवन बार-बार नही मिलता, चैरासी लाखों योनि को भोगने के बाद मनुष्य तन मिला है तो इसका लाभ यानी परमात्मा की प्राप्ति करना जरूरी है। हर मनुष्य को परमात्मा की प्राप्ति करके इस परमपिता परमात्मा में सेवा, सत्संग और सिमरण करके मिल जाना होता है कि जैसे नदी समन्दर को पाकर उसमें घुल-मिल जाती है। फिर वह नदी नही रहती वह समन्दर का रूप बन जाता है।

उन्होंने कहा कि निरंकारी मिशन ब्रह्मज्ञान प्रदान कर सभी को मानवीय गुणों से विभूषित कर रहा हैं। सबको संत बना रहा हैं, जिनकी पहचान पहनावा नहीं आचरण हैं।

ब्रांच मुखी गोपाल सिंह गुरुंग ने सन्त निरंकारी मिशन के तीन दिवसीय 70वें समागम की जानकारी देते हुए कहा की इस वर्ष 18,19 व 20 नवंबर दिल्ली मे विशाल संत समागम होगा,जिसमे देश-विदेश से भिन्न भिन्न बोली भाषा के संत एकत्र हो कर समागम का आनंद लेंगे।

अनेकता मे एकता का विशाल रूप सतगुरु माता सविंदर हरदेव जी के व्यहारिक शिक्षाओं के परिणाम स्वरुप सफल होगा। साप्ताहिक सत्संग का संचालन मनीष कुमार जी ने किया।

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply