परशुराम-लक्ष्मण संवाद के बेहतरीन किरदार को पर्वतीय रामलीला कमेटी की रामलीला में दर्शकों ने खूब सराहा -जानिए खबर

देहरादून। पर्वतीय रामलीला कमेटी रवि मित्तल मेमोरियल पब्लिक हाई स्कूल रेसकोर्स के तत्वाधान में शरदीय नवरात्र के अवसर पर प्रतिदिन श्री राम की लीलाओं का मंचन किया जा रहा है।

बता दें कि रामलीला के अंतर्गत मंगलवार को धनुषयज्ञ, परशुराम लक्ष्मण संवाद एवं राम विवाह की आकर्षक प्रस्तुतियां दी गई। भगवान राम द्वारा शिव धनुष का भंजन कर सीता स्वयंवर की लीला सम्पन्न हुई।

तत्पश्चात् शिव धनुष को टूटा हुआ देखकर ऋषि परशुराम राजा जनक पर क्रोधित हुए कि उनके आराध्य का धनुष किसने तोड़ा, इसी मध्य लक्ष्मण जी से परशुराम जी की इस संबंध में वाद-विवाद होता है।

परशुराम ने जब राजा जनक के दरबार में शिव धनुष विखण्डन पर अपने गुस्से का इजहार किया तो सारे राजा सन्न रह गये लेकिन लक्ष्मण जी के ज्ञत्रियत्व ने जब अंगड़ाई ली तो परशुराम ने यह कहकर क्षमा याचना की कि उनको यह मालूम नही था कि रामावतार हो चुका है। परशुराम के रूप में श्री शेखर चन्द्र जोशी के विद्वता पूर्ण, सार गर्भित अभिनय को दर्शकों द्वारा काफी सराहा गया।

वहीं रामलीला कमेटी के अध्यक्ष श्री जीवन सिंह बिष्ट ने बताया कि रामलीला के प्रति लोगों का काफी उत्साह है तथा नित्य प्रति बड़ी संख्या में श्रद्धालु रामलीला देखने आ रहे हैं।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *