पिरूल नीति के अन्तर्गत 25 किलोवाट के 20 प्रस्तावों को अनुमोदन प्रदान -जानिए खबर

देहरादून। मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को सचिवालय में पिरूल नीति के तहत प्रस्तावित प्रोजेक्ट्स को स्वीकृत करने हेतु गठित परियोजना अनुमोदन समिति की प्रथम बैठक सम्पन्न हुयी। बैठक के दौरान पिरूल नीति के अन्तर्गत 25 किलोवाट के 20 प्रस्तावों को अनुमोदन प्रदान किया गया।

इस अवसर पर मुख्य सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में से एक पिरूल से ऊर्जा उत्पादन को तेजी से गति प्रदान की जाए। मुख्य सचिव ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि प्रोजेक्ट लगाने के इच्छुक लोगों और संस्थाओं को हर प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएं।

उन्होंने कहा कि पिरूल नीति से क्षेत्रवासियों विशेषकर महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण और रोजगार की संभावनाएं बढ़ेंगी। उन्होंने कहा कि पिरूल संयंत्र तक जंगलों से पिरूल कलेक्ट करने में स्थानीय स्तर पर रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि चीड़ की पत्तियों से हर साल 150 मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य है।

मुख्य सचिव ने कहा कि गर्मियों के दिनों में पिरूल वनाग्नि का कारण बन जाता है। पिरूल पर तेजी से आग फैलती है, जो पूरे जंगल को चपेट मे ले लेती है, इससे वन संपदा के साथ जनहानि एवं पशुहानि भी होती है। मुख्य सचिव ने कहा कि वनों को आग से बचाने में यह प्रोजेक्ट बहुत ही कारगर साबित होगा।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड के वनों और वन्य जीव जन्तुओं को बचाने के साथ ही रोजगार की सम्भावनाएं बढ़ाने के लिए हम सभी को पिरूल से विद्युत उत्पादन को सफल बनाने के हर सम्भव प्रयास करने होंगे। इसके लिए स्वयंसेवी संस्थाओं, औद्योगिक संस्थानों, ग्राम पंचायतों, वन पंचायतों एवं महिला मंगल दलों को प्रोत्साहित किया जाए।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार, सचिव श्री अमित नेगी, श्रीमती राधिका झा एवं श्री अरविन्द सिंह ह्यांकी भी मौजूद थे।(ब्यूरो)

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply