देश में हुआ ऐसी तकनीकी का विकास जो नदी तथा तालाबों के जल को कर सकती है साफ -जानिए खबर

नैनीताल। द्वितीय व्यवधान में आई आई टी कानपुर के प्रोफेसर देशदीप सहदेव ने एक सूक्ष्मदर्शी का आविष्कार बताया जिसमें परमाणु कण देखे जा सकते हैं। साथ ही उन्होंने निरीक्षण सूक्ष्मदर्शी का वर्णन भी किया जो कि आणुविक स्तर के अध्ययन के लिये लाभप्रद है।

भारतीय प्रोद्योगिक संस्थान चेन्नई के प्रोफेसर फिलिप ने कहा कि देश में तकनीकी का विकास हो चुका है जो नदी तथा तालाबों के जल को साफ कर सकते हैं।

प्रोफेसर फिलिप ने कहा कि जल की शुद्धता में क्रियात्मक कार्बन महत्वपूर्ण है यथा जल संक्रमण को प्लाज्मा झिल्ली से साफ किया जा सकता है।

डा. अतुल गोर्व ने कहा कि अपशिष्ट प्लास्टिक का प्रयोग ऊर्जा उत्पादन में करके प्रदूषण को कम किया जा सकता है। आज 45 वैज्ञानिकों ने अपने विभिन्न विषयों ऊर्जा, किरयातमक सामग्री तथा नैनो पर व्यवधान दिये। सायं 5-6 बजे तक युवा वैज्ञानिकों ने अपने शोध कार्यों को पोस्टर प्रदर्शनी में प्रस्तुत किया।

अन्तर्राष्ट्रीय कांग्रेस में प्रोफेसर ए बी मलकानी, प्रोफेसर एन जी साहू, डा सोहल जावेद, डा पेनी जोशी, डा सन्तोष उपाध्याय, प्रोफेसर ललित तिवारी, हिमानी तिवारी, संजय रैकवाल, कीर्ति सिंह, चेतना तिवारी, प्रोफेसर चनदरा कला पंत, प्रोफेसर बी एस मुरथी, डा संगीता वर्मा, कुलदीप जोशी, प्रोफेसर पी सी साबुमन, सीमा, नीमा, आदि मौजूद रहे। कल तकनीकी सत्रों के साथ समापन समारोह आयोजित होगा।

– डा. ललित तिवारी

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply