मरीज से निजी लैब से जांच कराने पर दून मेडिकल कालेज का चिकित्सक ओपीडी से निष्कासित

देहरादून। अस्पताल में सुविधा होने के बावजूद मरीज की जांच बाहर से कराने वाले चिकित्सकों पर दून मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने कार्रवाई की है।

मीडिया सूत्रों के अनुसार सर्जरी विभाग के सीनियर रेजिडेंट डॉ. अंकित जैन को अगले 15 दिन के लिए ओपीडी से निष्कासित कर दिया गया है। इस दौरान वह चिकित्सा अधीक्षक के कार्यालय से संबद्ध रहेंगे। उन्हें सख्त ताकीद की गई कि आगे कभी कोई शिकायत मिली तो तत्काल उनकी सेवा समाप्त कर दी जाएगी।

बता दें, बीते बुधवार कारगी निवासी भोलादत्त सर्जन डॉ. अंकित जैन के पास पहुंचे। उनसे परामर्श लिया तो चिकित्सक ने एफएनएसी टेस्ट कराने की सलाह दी। इस पर उन्होंने पूछा कि दून अस्पताल में यह टेस्ट होता है तो उत्तर चैंकाने वाला था।

डॉक्टर ने कहा होता तो है, लेकिन ठीक तरह से नहीं होता। लिहाजा, आप बाहर से टेस्ट करा लें। डॉक्टर से लैब का पता पूछा तो उन्होंने फट से एक पर्ची निकालकर दे दी, जिस पर लैब तक पहुंचने का नक्शा भी छपा हुआ था।

यहां तक तो बात ठीक थी, लेकिन डॉक्टर साहब तो इससे भी आगे बढ़ गए। कहने लगे कि एक बार यह पर्ची दिखाओगे तो वो समझ जाएंगे कि डॉक्टर जैन ने भेजा है।

वहीं एक चर्चित समाचार पत्र ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिसके बाद कॉलेज प्रशासन भी हरकत में दिखाई दिया। प्राचार्य डॉ. आशुतोष सयाना ने विभागाध्यक्ष को मामले की जांच कर रिपोर्ट मांगी। जिसमें इस बात की पुष्टि हुई कि चिकित्सक ने मरीज को जानबूझकर निजी लैब में भेजा।

इस पर प्राचार्य ने चिकित्सक को 15 दिन के लिए ओपीडी से निष्कासित कर दिया है। चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके टम्टा ने मामले की जानकारी देते बताया कि अगले एक पखवाड़े तक चिकित्सक न ओपीडी करेंगे और न ऑपरेशन करेंगे। वह उनके कार्यालय से संबद्ध रहेंगे। मरीज को बाहर से दवा व जांच लिखने वाले अन्य डॉक्टर भी इससे सबक लें। अन्यथा कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply