बेहतरीन फिल्ममेकर पौरान देराक्षांदेह की बेहतरीन फिल्मों का एक सफर -जानिए खबर

देहरादून। जागरण फिल्म फेस्टिवल (जेएफएफ) के 10वें संस्करण में वर्ल्ड फिल्मों के रेट्रोस्पेक्टिव का आयोजन किया जाएगा और इसमें मशहूर इरानी फिल्म निर्देशक, निर्माता, पटकथा लेखिका और रिसर्चर पौरान देराक्षांदेह के जीवन और कार्य का उत्सव मनाया जाएगा। 19 जुलाई को सिरीफोर्ट ऑडिटॉरियम में भारत के सबसे जानमाने फिल्म समीक्षक राजीव मसंद उनके साथ खास बातचीत करेंगे।

फिल्ममेकर की पुरस्कृत की गई बेहतरीन फिल्में जैसे ‘हश! गर्ल्स डोंट स्क्रीम’, ‘अंडर द स्मोकी रुफ’, ‘इटर्नल चिल्ड्रन’ और ‘वेट ड्रीम’ इस फेस्टिवल में प्रदर्शित की जाएंगी। उनकी फिल्में बाल यौन शोषण और महिलाओं के अधिकार जैसे सामाजिक मुद्दों पर आधारित होती है।

पौरान देराक्षांदेह कहती है, “मैं जागरण फिल्म फेस्टिवल के 10वें संस्करण में यहां आकर बेहद खुशी महसूस कर रही हूं। वर्ल्ड सिनेमा के रिट्रोस्पेक्टिव सेक्शन में फेस्टिवल द्वारा मेरा चयन करने पर मैं बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं। एक फिल्ममेकर के तौर पर मैं हमेशा भारत और उसके फिल्म इंडस्ट्री की हमेशा प्रशंसक रही हूं, जो अब दुनियाभर में नाम कमा रही है।

मुझे ये भरोसा है कि अलग-अलग संस्कृतियों में भी कई समानताएं होती हैं। एक फिल्ममेकर के तौर पर जो महिला केंद्रित मुद्दों पर फिल्म बनाती है, मेरे लिए भारत प्रेरणा देनेवाला देश है। हाल ही में बनाई मेरी फिल्म ‘हश! गर्ल्स डोंट स्क्रीम’ बाल यौन शोषण पर आधारित थी और इस सिलसिले में शोध के दौरान मैं भारत आई थी। फिल्म को बेहद जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली है। इसलिए, भारत में वापस आकर अच्छा लग रहा है। ”

पौरान देराक्षांदेह की जिन 4 फिल्मों को 10वें जेएफएफ में प्रदर्शित किया जाएगा, उनका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार हैः-

हश! गर्ल्स डोंट स्क्रीम : ये नाटकीय फिल्म एक महिला के बारे में है जिसे एक व्यक्ति की हत्या करने के लिए मौत की सजा दी गई है, जिसने उसका बचपन में लगातार यौन शोषण किया था और एक अन्य लड़की के साथ भी ऐसा करने की धमकी दी थी।

अंडर द स्मोकी रुफ : बुरी तरह थक चुकी शिरिन हैरान हैय उसे ऐक बेटा है जो उससे बात नहीं करता और एक पति जो बात नहीं कर सकता। हताश हो चुका पति बेहतर कल में अपनी खुशियां ढूंढने की कोशिश करता है, जबकि वो खुद को घर के कामों में व्यस्त कर लेती है- उसके सांसारिक अस्तित्व का सहारा, कुछ भौतिक रुप से आरामदायक। वो बहुत चिंता करती है और उनके पीछे पड़ती है लेकिन इन सबके पीछे उसकी भावना प्यार की होती है।

फिर भी, उसके अच्छे इरादों की इस घर में उस पर उल्टी ही प्रतिक्रिया होती है। केवल एक ही व्यक्ति को इन सबसे कोई सरोकार होता है …..कम से कम शुरुआत में। जब परिवार के अन्य सदस्य आखिर में फैसला करते है चीजें ठीक करने की, तो क्या ये, बहुत थोड़ा और बहुत देरी से, वाला मामला है? अँडर द स्मोकी रुफ एक फैमिली ड्रामा है जिसमें रस आने में थोड़ा वक्त लगता है। शादीशुदा जिंदगी के कलह से जुड़ा विषय जाना पहचाना है और कुछ उदास करनेवाला भी ।

इटर्नल चिल्ड्रन : सईद से अपनी शादी की तैयारी कर रही निगार को पता चलता है कि उसका होनेवाला पति इस नैतिक बंधन में केवल अपने मानसिक रुप से विकलांग भाई की खातिर प्रतिबद्ध है। वो असमंजस में पड़ गई है और निर्णय नहीं ले पा रही कि उसे सही सिद्ध करे और किसी तीसरे व्यक्ति के साथ परिवार साझा करे या फिर दूर चली जाए ।

वेट ड्रीम : 16 साल का आराश अब युवावस्था के करीब है। कई साल अपनी मां के साथ रहने के बाद कुछ परेशानियों के चलते वो उसे छोड़कर अपने पिता के साथ रहने के लिए जाता है। वहां उसकी मुलाकात एक लड़की से होती है जो उसकी जिंदगी बदल देती है।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply