उत्तराखंड युवा विधानसभा का चार दिवसीय जनसभा का समापन

अंतिम दिन में हंगामे के चलते महिला आरक्षण विधेयक फिर लटका

समापन सत्र के अंतिम दिन का शुभारंभ मुख्य अतिथि सूर्यकांत धस्माना (वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष कांग्रेस) ने किया। उन्होंने कहा कि भारत विविधता में एकता वाला देश है, इसलिए सहमति और असहमति होते हुए भी हम आपस में मित्र हैं और यही लोकतंत्र की खूबसूरती है। युवा आह्वान सम्मान श्री रोहित ध्यानी जी को दिया गया।

वहीं मुख्य वक्ता के तौर पर श्रीमान शंकर सागर जी (भू अध्यादेश के प्रणेता) तथा विशिष्ट अतिथि के रुप में एपी जुयाल जी वरिष्ठ आंदोलनकारी वी. पी. नौटियाल, ललित जोशी चेयरमैन यू0अाई0 एच0एम0टी0 मौजूद रहे। महिला आरक्षण विधेयक पर बीते दिन से हंगामेदार चर्चा चल रही थी उस पर विपक्षी नेता सुरभि ममगाईं ने कहा कि महिलाओं को आरक्षण की बैसाखी देकर उन्हें और कमजोर बनाने जैसा है उन्हें सशक्त बनाया जाए।

वहीं विपक्षी नेता शरद पाल ने कहा कि आरक्षण नहीं बल्कि संरक्षण देकर समानता दी जाए। वहीं सत्ता पक्ष की ओर से शाहिन सिद्धकी ने कहा कि महिलाएं शुरू से ही पिछड़ी रही हैं इसीलिए उन्हें मुख्यधारा में लाने के लिए महिला आरक्षण विधेयक पारित होना जरूरी है, वही सत्ता पक्ष के नेता जुनाली थपलियाल ने कहा कि महिलाओं को कम नहीं आंकना चाहिए, उन्हें एक बार घर से बाहर निकलने का मौका दिया जाएगा तो महिला आरक्षण विधेयक बढ़ाने का सही तरीका होगा।

भोजनावकाश के बाद बेरोजगारी पर भी प्रस्ताव विपक्ष की तरफ से लाया गया जिस पर काफी हंगामेदार चर्चा हुई वही नेता प्रतिपक्ष गणेश ध्यानी ने कहा कि शिक्षा, रोजगार और पलायन जैसी अंतरसम्बंधित विषय हैं जैसे खस्ताहाल बुनियादी ढांचा हो चाहे शिक्षा की बात हो, स्वास्थ्य की बात हो, जड़ी-बूटी को बढ़ावा मिले और उन्हें कानूनी वैधता दी जाए, उद्योगों को भी बढ़ावा दिया जाए। सत्ता पक्ष की ओर से नेता आशीष बुड़ाकोटी ने कहा कि सरकार इस ओर ध्यान दे रही है और कई योजनाएं वर्तमान में चला भी रही है और आगे भी स्वरोजगार को बढ़ावा दिया जाएगा। अंत में ललित जोशी अध्यक्ष मानवाधिकार संरक्षण समिति व यूआईएचएमटी कॉलेज के चेयरमैन ने युवाओं को एकजुट होकर नशा मुक्त उत्तराखंड बनाने पर जोर दिया तथा हिमाचल की तर्ज उत्तराखंड में भी भू-अध्यादेश लाने की बात भी सदन में उठी।

कार्यक्रम का सफल संचालन युवा आह्वान के सचिव सौरभ ममंगाई जी, व सह सचिव प्रशांत बडोनी ने किया। इस मौके पर युवा आह्वान के अध्यक्ष प्रकाश गौड़, उपाध्यक्ष अंकित बिष्ट एवं सदस्य भगवती प्रसाद, अर्चना चमोली लक्ष्मण नेगी आदि उपस्थित रहे। उत्तराखंड के जनसरोकारों से जुड़े मुद्दों पर अपने स्तर पर कार्य करने का सभी विधायकों ने संकल्प लिया।

संस्था प्रमुख प्रकाश गौड़ ने कहा कि अगले सत्र में कार्यक्रम की गुणवत्ता सुधारने के लिए सभी युवा विधायकों से सुझाव लिए गए हैं, उत्तराखंड राज्य गीत के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

सदन में आज शत प्रतिशत विधायकों की उपस्थिति रही

कुछ आवश्यक विधेयक जिनपर इस सत्र में चर्चा नहीं हो पाई, उन्हें अगले शीतकालीन सत्र मे सदन मे पेश किया जाएगा समपन अवसर पर युवाओं के लिये समर्पित रोहित ध्यानी जी को यूवा आह्वान अवार्ड से सम्मानित किया गया संसदीय कार्य मंत्री कार्तिकेय पन्त ने हिमाचल की तर्ज पर उत्तराखंड में भी भू कानून की मांग की सभी प्रतिभागियों ने युवा विधायक के तौर पर अवसर प्रदान करने हेतु युवा आह्वान का धन्यवाद किया और अगले सत्र में प्रतिभाग हेतु उत्साह प्रकट किया।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply