व्यवसायिक पाठ्यक्रमों की संख्या बढ़ाने से रोजगार व स्वालंबन में मिलेगी बेहतर मदद् -जानिए खबर

नैनीताल। अकादमिक स्टाफ कॉलेज बी फार्मेसी में बीते दिन कुमाऊं विश्वविद्यालय की अकादमिक परिषद की बैठक संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता कुलपति प्रोफेसर के.एस. राणा ने की तथा मंच संचालन कुलसचिव डॉ महेश कुमार ने किया।

बता दें कि अकादमिक बैठक को संबोधित करते हुए कुलपति प्रोफेसर राणा ने कहा कि सभी विद्वतजन विश्वविद्यालय को नई ऊंचाइयों में ले जाने के लिए कार्य करें। व्यवसायिक पाठ्यक्रमों की संख्या बढ़ाने से रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त होंगे तथा स्वालंबन करने में मदद्गार होंगे।

कुलपति सचिव कुलसचिव डॉ महेंद्र कुमार ने बैठक का एजेंडा (कार्यविधि) प्रस्तुत की। उन्होंने बैठक में बताया कि शोध कार्य के मूल्यांकन में दो संदर्भ के नियम को समाप्त कर दिया गया तथा अब इस संदर्भ में पूर्व का नियम लागू होगा।

बैठक में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों की नियमावली को मंजूरी दी गई तथा 70 वाह्य एवं 30 प्रतिशत आंतरिक परीक्षा विषय को मंजूरी दी गई। बैठक में पर्यावरण विज्ञान में एम.एस.सी. सहित एग्रीकल्चर फैकल्टी के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई।

बता दें कि इन प्रस्तावों को शासनादेश तथा शासन की अनुमति हेतु विस्तृत प्रस्ताव भेजे जाने का निर्णय लिया गया। बी.एस.सी. हेतु 4 वर्ष के पश्चात 01वर्ष का विस्तार तथा पुर्नपंजीकरण हेतु Rs. 7000/- रूपये शुल्क जमा करने का प्रस्ताव पारित किया है।

वहीं कला में चाइनीज, स्पेनीस सहित अन्य भाषाओं हेतु भी अनुमोदन लिया गया। कला विज्ञान तथा वाणिज्य में स्नातक स्तर पर प्रारंभिक हिंदी का एक प्रश्न पत्र लागू होगा। वहीं विज्ञान वर्ग में इस वर्ष 2019-20 से प्रति विषय, प्रति सेमेस्टर में अब तीन के स्थान पर दो प्रश्न पत्र होंगे। तथा प्रश्न पत्र 60 अंक, आंतरिक परीक्षा 15 अंक तथा प्रयोगात्मक परीक्षा 5 अकं की होगी।

ललित तिवारी, नैनीताल

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply