F-16 पर भारत ने खोली पाकिस्तान की पोल; अमेरिका ने मांगा जवाब

#Surgical Strike2 के बाद भारत को जवाब देने के लिए पाकिस्तान ने अमेरिका निर्मित F-16 लड़ाकू का इस्तेमाल किया। भारत के खिलाफ F-16 लड़ाकू विमान इस्तेमाल करने पर पाकिस्तान फंस गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार F-16 लड़ाकू जेट के दुरुपयोग को लेकर अमेरिका ने इसके लिए पाकिस्तान सरकार से जवाब मांगा है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता का कहना है कि पाकिस्तानी सेना ने शर्तों का उल्लंघन किया है।

सूत्रों की माने तो विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ‘ हमारी जानकारी में यह मामला सामने आया है कि पाकिस्तान ने विमान समझौते का उल्लंघन किया है। हम इससे संबंधित जानकारी मांग रहे हैं’। उधर, रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल कोन फॉल्कनर ने कहा कि F-16 लड़ाकू विमान के समझौते की जानकारी को हम सार्वजनिक नहीं कर सकते हैं। लेकिन इस बात से हम अवगत हैं कि पाकिस्तान ने इसका इस्तेमाल भारत के खिलाफ किया है।

दरअसल, अमेरिका ने पाकिस्तान को F-16 लड़ाकू विमान आतंक विरोधी अभियान के लिए दिया था। 80 के दशक में अमेरिका ने F-16 विमानों को पाकिस्‍तान को दिया था। शर्तों के मुताबिक बिना अमेरिका की अनुमति के पाकिस्तान F-16 लड़ाकू विमानों का इस्तेमाल सैन्य कार्रवाई में नहीं कर सकता। इसका इस्तेमाल आत्मरक्षा में किया जा सकता है, लेकिन हमले के लिए नहीं।

F-16 अमेरिका में बना लड़ाकू विमान है और इसमें लगने वाली एमरॉम मिसाइल भी अमेरिका में ही बनती है। अपने इस विमान के इस्तेमाल के लिए अमेरिका की शर्तें होती हैं। नियमानुसार पाकिस्तान को दूसरे देश के खिलाफ इसका इस्‍तेमाल करने से पहले अमेरिका की इजाजत लेनी होगी। नियमों का उल्‍लंघन होने पर अमेरिका पाकिस्‍तान के खिलाफ कार्यवाही भी कर सकता है। इसकी वजह से ही पाकिस्‍तान काफी सहमा हुआ है। गुरुवार को जो सुबूत भारत की तरफ से पेश किए गए हैं वह इस बात को पुख्‍ता कर रहे हैं कि यह विमान F-16 थे।

बता दें कि बालाकोट में की गई एयर स्‍ट्राइक के बाद पाकिस्‍तान ने बुधवार को अपने विमानों से भारतीय हवाई क्षेत्र का न सिर्फ उल्‍लंघन किया, बल्कि इन विमानों का मकसद भारतीय सैन्‍य ठिकानों को निशाना बनाना था। लेकिन समय रहते भारतीय विमानों ने उनका पीछा किया और तीन में से एक विमान को मार गिराया। भारत इस विमान को F-16 बता रहा है, जबकि पाकिस्‍तान इसे दूसरा विमान बता रहा है।

भारत ने इसको लेकर कुछ सुबूत मुहैया करवाए हैं जो यह बताते हैं कि भारतीय हवाई क्षेत्र में घुसने वाले लड़ाकू विमान F-16 ही थे। गुरुवार को वायुसेना ने इसके सुबूत देते हुए कुछ तस्वीरें जारी की थी। यह तस्‍वीरें पहले पाकिस्‍तान की तरफ से दिखाई गई थीं और इस विमान के मलबे को भारतीय मिग बताया गया था। तस्‍वीरों में मलबे के पास पाकिस्तान के सात नॉर्दर्न लाइट इन्फैंट्री के अधिकारी खड़े दिखाए गए थे। लेकिन गुरुवार को वायुसेना ने इस झूठ की कलई खोलकर रख दी।

वायुसेना ने कहा है कि यह मलबा उसी F-16 विमान का है जिसे भारतीय विमान ने मार गिराया था। इस विमान का यह मलबा पाकिस्तान के कब्जे वाले गुलाम कश्मीर में पाया गया है। सुबूतों के तौर पर नियंत्रण रेखा के पास मिले उस एमरॉम मिसाइल का टुकड़ा भी सामने रखा है, जो F-16 से ही दागी जा सकती है। यह राजौरी इलाके में मिला है।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *