कैसे तुमसे प्रीत लगाई . . .

माँग लिया है झोली भरकर, साजन मैंने प्यार तुम्हारा ।
नयन झरोखें तुम्हे बिठाकर, दिवस रैन बस तुम्हें निहारा ।

तुम ही रब जैसे लगते हो , कैसे तुमसे प्रीत लगाई ,

बाँधा तुमको हृदय डोर से, दुनिया से मैं हुई पराई ।
कभी तिक्त है कभी शहद सा, अधर धरूँ जब प्यार तुम्हारा ।
नयन झरोखें तुम्हे बिठाकर, दिवस रैन बस तुम्हें निहारा …..

लगन लगी ऐसी प्रियतम पर, तन क्या मन भी वार चुकी हूं ।
बेचैनी यह कैसी पाली, चैन सुकूँ ही हार चुकी हूं ।
मखमल सम है कभी नरम तो, कभी खुरदुरा प्यार तुम्हारा ।।

नयन झरोखें तुम्हे बिठाकर, दिवस रैन बस तुम्हें निहारा…

प्रेम दिवानी बनी राधिका, श्याम रंग में मन मतवाला ।
भजती निशदिन मीरा रानी, मूरत ले गिरधर गोपाला ।
दिव्य प्रेम वश वन-वन डोलें, दोनों ही तजकर घर-द्वारा ।

नयन झरोखें तुम्हे बिठाकर, दिवस रैन बस तुम्हें निहारा

रीना गोयल, सरस्वतीनगर ( हरियाणा)

Sushil Kumar Josh

"उत्तराखण्ड जोश" एक न्यूज पोर्टल है जो अपने पाठकों को देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, फिल्मी, कहानी, कविता, व्यंग्य इत्यादि समाचार सोशल मीडिया के जरिये आप तक पहुंचाने का कार्य करता है। वहीं अन्य लोगों तक पहुंचाने या शेयर करने लिए आपका सहयोग चाहता है।

Leave a Reply