परमात्मा की अंग-संग पहचान ही ज्ञान है: इन्द्रा नकोटी

देहरादून। आत्मा का मूल निरंकार प्रभु है। एक दूसरे के साथ जुड़ा हुआ है क्योंकि हर मानव के अन्दर एक ही मूल परमात्मा का अंश आत्मा निवास करती है और इस आत्मा के अंग-संग जो परमात्मा का दीदार करा दें वही पूर्ण सद्गुरु होता है।

Indraउक्त उद्गार रविवार को सन्त निरंकारी मण्डल के तत्वाधान में आयोजित सत्संग कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए चम्बा से पधारे ज्ञान प्रचारक बहन इन्द्रा नकोटी जी ने आयी हुई साध संगत को सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज का आर्शीवचन प्रदान करते हुए व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि सद्गुरु गुरुसिख के जीवन में निरंकार प्रभु पर विश्वास दृढ़ करता है जिससे इस आत्मा को जहां भी परमात्मा की आवाज सुनाई देती है व सकून महशूस करती है क्योंकि वहीं उसका मूल होता है।

आत्मा किसी भी शरीर को स्वीकर करके अपने दिव्यबोध को हासिल करती है। सत्गुरु इसी कार्य को करते है। संसार में फैली अज्ञाता को ज्ञान की रोशनी प्रदान करती है। गुरुसिख सदा अपने सत्गुरु पर एतवार करके उसकी दीक्षा को जीवन में धारण करते है। सत्गुरु अपने गुरुसिख को भ्रम-भ्रांतियों से निकाल कर सहज एवं सरल सादगी का जीवन जीने का तरीका सिखाता है।

Nokoti Indra

उन्होंने आगे कहा कि मानवीय जीवन का असली चिराग आध्यात्मिकता है जो अंधकार रूपी अंधेरे को प्रकाशित करता है। वैर, द्वेष, नफरत, निन्दा के अवगुणों को दूर करके प्रेम, करुण के भाव को हृदय में स्थापित करते है। जिससे जीवन सादगी भरा होता है और जीवन में आनन्द प्राप्त करते है। गुरुसिख सादा अपने सद्गुरु के वचनों को सिर माथे पर रखकर चलता है तो उसे असली जीवन के मायने व निरंकार प्रभु का एहसास होता है।

सत्संग समापन से पूर्व अनेकों प्रभु-प्रेमियों, भाई-बहनों एवं नन्हे-मुन्ने बच्चों ने गीतों एवं प्रवचनों के माध्यम से निरंकारी माता सुदीक्षा जी महाराज की कृपाओं का व्याख्यान कर संगत को निहाल किया। मंच का संचालन पूज्य भगवत प्रसाद जोशी जी ने किया।

सुशील एवं विकास बिहानिया

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *