पहाड़ों में बढ़ने लगी नशाखोरी; गांव-गांव में चला ‘नशा मुक्ति अभियान’ -रेखा नौटियाल

उत्तरकाशी। पुरोला में नवयुवकों में बढ़ते नशे की लतों से कई घर बर्बाद हो गए हैं। इस बढ़ते नशे का शिकार किसी का पति है तो किसी का बेटा। कहीं माँ रो रही है तो कहीं पत्नी। पहाड़ों में कभी ऐसा नही था लेकिन जब से बाहरी लोगों का आना-जाना ज्यादा हुआ तब से पहाड़ों में नशाखोरी बढ़ने लगे गयी है।

Nasha-Mukti-Centre
बता दें कि गांव-गांव में नशा इस कदर बढ़ा कि आज प्रशासन ने भी पूरी कोशिश कर ली लेकिन पूरी तरह अंकुश नहीं लगा पाई। कई बार तो पुलिस ने यदि किसी को पकड़ भी लिया तो उसे समझाकर छोड़ दिया। वहीं समझाया कि फिर गलती मत करना। लेकिन जो नशे का आदि हो गया है उसे किसी का भय नही।

प्रशासन का भी सरदर्द बना है। कई लोगों को इस अपराध में जेल भी भेज चुके है लेकिन पूरे क्षेत्र में नशा रुकने का नाम नही ले रहा है। रेखा ने अपने साथ कई महिलाओं को जोड़कर नशामुक्ति का बीड़ा उठा रखा है।

Nasha-Mukati-Abhiyan

वहीं पुरोला प्रशासन ने पुलिस की मदद से कई लोगों को जेल भी भेज दिया। आज गांव-गाँव में जाकर रेखा नोटियाल ने महिलाओं को लेकर जनजागरण नशामुक्ति अभियान शुरु कर दिया। ग्राम पंचायत घिवरा से नशामुक्ति अभियान की सुरुआत करते हुए ग्रामीणों से भूरी भूरी प्रसंसा की। तथा संकल्प किया कि आने वाले पंचायत चुनाव में शराब पिलाने वाले व्यक्ति को बिल्कुल न चुने।

रेखा ने पुरोला के लिए एक नई मुहीम लेकर चली है जब से आंदोलन शुरु किये कामयाबी भी काफी मिली प्रशासन को भी इसका सहयोग मिलेगा तो वह दिन दूर नही जब पुरोला पूरा नशामुक्त हो जयेगा।

Samat-Matar-Shakti

घिवरा में रेखा ने सभी महिलाओं को इस आंदोलन में सक्रिया भागीदारी निभने के लिए कहा सभी ने रेखा के इस कार्या को सराया। आंदोलन में विमला, वनमाला, कुलवंती, मीना, सुषमा, बवीता, सीता, नीमा, बिमला पंवार, रामेश्वर आदि ने भाग लिया।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply