मौलाना नहीं, शैतान का चेला है मसूद अजहर; देश का आक्रोश देख ओवैसी ने भी दिया एकता का परिचयः पाक पर जमकर बरसे

नई दिल्ली। शनिवार को पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने पाक के प्रधानमंत्री इमरान खान को लेकर कहा कि वो अपने चेहरे से शराफत का मुखौटा हटा ले। उन्होंने कहा कि मसूद अजहर, तुम मौलाना नहीं हो, तुम शैतान के शिष्य हो। यह लश्कर-ए-तैयबा नहीं है, यह लश्कर-ए-शैतान है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पुलवामा हमले को लेकर एआइएमएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि यह हमला पाकिस्तान सरकार, पाकिस्तानी आर्मी और आइएसआइ के इशारे पर हुआ है। इस हमले की जिम्मेदारी लेने वाले जैश-ए-मुहम्मद का सरगना मसूद अजहर मौलाना नहीं श्शैतान का चेलाश् है।

इस दौरान उन्होंने जैश-ए-मुहम्मद पर निशाना साधते हुए कहा कि जिन लोगों ने हमारे 40 जवानों की हत्या की है और उसकी जिम्मेदारी ली है, वे जैश-ए-मोहम्मद नहीं जैश-ए-शैतान हैं।

ओवैसी ने यह भी कहा, ‘मुहम्मद का सैनिक किसी व्यक्ति की हत्या नहीं करता, वह मानवता के प्रति दयालु है। तुम जैश-ए-शैतान, जैश-ए-इबलीस हो। मसूद अजहर, तुम मौलाना नहीं हो, तुम शैतान के शिष्य हो। यह लश्कर-ए-तैयबा नहीं है, यह लश्कर-ए-शैतान है।

ओवैसी ने कहा कि ‘इस आतंकी हमले को पाक सरकार, आर्मी और आइएसआइ ने कराया है। हम पाकिस्तान के पीएम को बताना चाहेंगे कि वे टीवी के सामने बैठकर भारत को संदेश न दे, जो वे चाहते हैं।

आपने इसे शुरू किया है। यह पहला हमला नहीं था। पठानकोट, उरी और अब पुलवामा। हम पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को कहना चाहते हैं अब आप अपने चेहरे से मासूमियत का नकाब हटा दो।’

बता दें कि 14 फरवरी को सीआरपीएफ का काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। इस काफिले में करीब 78 गाड़ियां थीं और 2500 जवान शामिल थे। उसी दौरान विस्फोटक से लदी एक कार ने सीआरपीएफ की बस में टक्कर मार दी, जिसके बाद घातक विस्फोट हुआ और 40 जवान शहीद हो गए।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *