आने वाली पीढ़ियों के लिए ताउली भूड़ की समृद्ध विरासत को संरक्षित करना बेड़ा उठा

देहरादून। इवॉल्व फाउंडेशन के साथ मिलकर एक प्रतिष्ठित पेंट निर्माता, शालीमार पेंट्स ने हाल ही में द कहानी प्रोजेक्ट लॉन्च किया, जिसका उद्देश्य उत्तराखंड में देहरादून के पास स्थित गांव ताउली भूड की विरासत की सुंदरता को बढ़ाना और संरक्षित करना है। अभियान के माध्यम से, पेंट निर्माता ने ताउली भूड़ की संस्कृति और परंपराओं को एक अनोखे, कलात्मक और रंगीन तरीके से मनाने का लक्ष्य रखा।

अभियान के भाग के रूप में, टीम ने गांव से लोक कथाएं एकत्र कीं, उन्हें चित्रों में बदला और गांव के घरों की दीवारों पर चित्रित किया। 20 से 26 फरवरी 2019 तक चलाए गए इस अभियान का उद्देश्य गांव की समग्र स्वच्छता में सुधार करते हुए, ताउली भूड़ की समृद्ध विरासत को संरक्षित करना था, ताकि आने वाली पीढ़ियां उन्हें देख सके।

ताउली भूड़ गांव में उत्तराखंड के जौनसार जनजाति के लोग शामिल हैं और मुख्य रूप से जौनसारी में संवाद करते हैं, जो एक बोली जाने वाली भाषा है जिसे लिखा नहीं जा सकता है। बड़े पैमाने पर प्रवास और एक स्थापित लिपि की कमी के परिणामस्वरूप, गांव के लोगों को डर है कि उनकी भाषा, परंपराएं और मूल्य समय के साथ भूला दिए जाएंगे।

इस चुनौती को पार करने के लिए, शालीमार पेंट्स के साथ एवॉल्व ने द कहानी प्रोजेक्ट के माध्यम से, सफलतापूर्वक उनकी लोक कथाओं को जीवंत किया। स्थानीय कहानियों के रंग में इन दीवारों को चित्रित करते हुए, अभियान ने ग्रामीणों के जीवन स्तर को बेहतर करने के लिए गांव की सड़कों की सफाई पर भी ध्यान केंद्रित किया।

ग्रामीणों के बीच गर्व की भावना पैदा करने के अलावा, द कहानी प्रोजेक्ट इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने, समुदाय के लिए अतिरिक्त राजस्व पैदा करने पर भी केंद्रित था।

शालीमार पेंट्स लिमिटेड के मार्केटिंग के वाइस प्रेसिडेंट सुश्री मीनल श्रीवास्तव ने इस पहल पर बोलते हुए कहा, “हम इस अभियान का हिस्सा बनकर खुश हैं जो न केवल स्थानीय कहानियों को सुशोभित करेगा बल्कि उन्हें बनाए रखना भी सुनिश्चित करेगा। ताउली भूड़ गांव में कई अनकही कहानियां हैं, और इसके लोग डरते हैं कि आने वाली पीढ़ियां उन्हें सुन नहीं पाएंगी और अपने समृद्ध अतीत के साथ नहीं जुड़ सकेंगी।

इस अभियान के माध्यम से, हमने ताउली भूड के लोगों को अपनी कहानियां बताने के लिए प्रोत्साहित किया और फिर वे उन जीवंत रंगों में जीवित हो उठी जो शालीमार पेंट्स ने पेश किए थे। यह हमें बहुत ही गौरव का अनुभव कराता है और हम उम्मीद करते हैं कि इस परियोजना को भारत के उन सभी सुदूर गांवों में लागू किया जाएगा, जिन्हें अपनी कहानियों को इतने अनोखे तरीके से बताने की जरूरत है।”

इस प्रोजेक्ट के तहत मुख्य गतिविधियों में ग्रामीणों से लोक कहानियों का संग्रह करना, स्थानीय लोगों की मदद से कहानियों को प्रदर्शित करने के लिए चित्रों का निर्माण, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय रूप से प्रशंसित स्वयंसेवक कलाकारों का पेंटिंग करने से पहले समुदाय के साथ मिलकरगांव की सफाई करना और अंत में ग्रामीणों के साथ मिलकर गांव की दीवारों पर चित्रों की पेंटिंग करना शामिल था।

इस गतिविधि के बाद कहानी उत्सव हुआ, एक कार्यक्रम जिसका आयोजन गांव की स्थानीय जौनसारी जनजाति की विरासत का जश्न मनाने और समुदाय के भीतर गर्व की भावना को फिर से जीवंत करने के लिए किया गया था। अभियान समाप्त होने के बाद, गांव को अब ‘अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ के लिए यूनेस्को की सूची में जोड़ा जाएगा, जिससे इसके निवासियों के बीच गर्व की भावना बढ़ेगी।

Sushil Kumar Josh

‘उत्तराखण्ड जोश’ एक वेब पोर्टल है जो देश-विदेश, सरकारी, अर्धसरकारी, सामाजिक गतिविधियां, स्वस्थ्य, मनोरजंन, स्पोर्टस, कहानी, कविता एवं व्यंग्य संबंधी समाचार एवं घटनाओं को सोशल मीडिया द्वारा अपने सुधीपाठकों एवं समाज तक पहुंचाता है। वहीं अपने सुधीपाठकों से यह आशा करता है कि खबरों को शेयर एवं लाइक जरूर करें। हमें आपके सहयोग की अतिआवश्यकता है। धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *